Saturday , August 19 2017
Home / test / मंदिर में गाय का गोश्त रखकर ISIS ने की दंगा भड़काने की साजिश !

मंदिर में गाय का गोश्त रखकर ISIS ने की दंगा भड़काने की साजिश !

नई दिल्ली : हैदराबाद में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने बुधवार को 9 जगहों पर ताबड़तोड़ छापेमारी की। इस दौरान इस्लामिक आतंकी संगठन आईएसआईएस से संबंध रखने वाले पांच युवाओं को गिरफ्तार किया गया, जबकि छह अन्य को हिरासत में रखकर पूछताछ भी की जा रही है। एनआईए का कहना है कि आईएस रमजान माह में चारमीनार के पास मंदिर में गोमांस रखकर दंगा भड़काने की साजिश रच रहा था।
एनआईए को बुधवार की छापेमारी में गिरफ्तार युवाओं के पास से शक्तिशाली बम और करीब 15 लाख रुपए कैश भी मिले हैं। जांच एजेंसी ने खुलासा किया है कि आतंकी संगठन की योजना हैदराबाद शहर को धमाकों से दहलाने की थी। वे शहर के वीवीआईपी और भीड़भाड़ वाले इलाकों को निशाना बनाना चाहते थे। लेकिन, उनका मुख्य मकसद शहर में सद्भाव बिगाड़ने और दंगा भड़काने की थी। इसके लिए वे चारमीनार के पास स्थित भाग्यलक्ष्मी मंदिर में गोमांस और भैंस का मीट रखने वाले थे।

जांच एजेंसी के मुताबिक आईएस का हैदराबाद से गिरफ्तार युवा आईएस के हैंडलर शफी अरमर के साथ नियमित रूप से संपर्क में थे। इन युवकों पर पिछले 4-5 महीनों से एनआईए नजर बनाए हुए था। एनआईए ने 25 जून को इन युवकों की टेलिफोन पर हुई बातचीत को सुनने के बाद संदिग्धों को हिरासत में लेने का करने का फैसला किया। एनआईए के सूत्र ने बताया, ‘बातचीत के दौरान एक संदिग्ध ने दूसरे व्यक्ति से फोन पर उस दिन गाय और भैंस के मांस के चार-चार टुकड़े, और अगले दिन गोमांस के सात टुकड़े लाने को कहा।’

सूत्र ने बताया कि हमला अगले कुछ दिनों में हो सकता था और मॉड्यूल के लिए फंड दुबई के रास्ते निकल चुका था। एनआईए, आईएसआईएस के हैदराबाद मॉड्यूल के भंडाफोड़ को बड़ी सफलता मान रही है क्योंकि यह भारत में आईएस से प्रेरित पहला बड़ा आधुनिक हथियारबंद गुट है। हालांकि इससे पहले रुड़की में मॉड्यूल का भंडाफोड़ हुआ था, लेकिन उसके पास मिले हथि‍यार इतने चिंताजनक नहीं थे।

एनआईए के एक अधिकारी ने कहा, ‘गोमांस को लेकर टेलिफोन पर हुई बातचीत के बाद एनआईए ने एक्शन लेने का फैसला किया। हमारा अनुमान है कि आईएस से प्रेरित ये युवा, जो सीरिया में बैठे हैंडलर आमिर से संपर्क में थे, वीवीआईपी और मॉल्स, शॉपिंग सेंटर्स, चारमीनार के आसपास के इलाकों को निशाना बनाना चाहते थे। इसके साथ ही करीब के मंदिरों में गोमांस प्लांट करना चाहते थे। इसमें भाग्यलक्ष्मी मंदिर भी एक संभावित निशाना हो सकता था।’ एनआईए सूत्र ने आशंका जताई है कि आमिर ही शफी अरमर उर्फ यूसुफ अल हिन्दी है।

गौरतलब है कि खुफिया इनपुट के आधार पर बुधवार सुबह हैदराबाद शहर के करीब 9 जगहों पर एनआईए ने छापेमारी की है। एनआईए ने मामले में 22 जून को ही एक एफआईआर दर्ज की थी, जिसके तहत बुधवार को 5 लोगों की गिरफ्तारी हुई है। जांच एजेंसी ने विस्फोटक पदार्थ अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया है। एफआईआर में मो. इलियास यजदी (अमान नगर, हैदराबाद), मोहम्मद इब्राहिम यजदी (अमान नगर), हबीब बरकस, मो. इरफान (चट्टा बाजार) और अब्दुल्ला बिन अहमद अलमुदि उर्फ फहद (चार मीनार) के नाम शामिल हैं।

एजेंसी बाकी के 6 युवकों से पूछताछ कर रही है। जिन 5 लोगों को गिरफ्तार किया है, उनसे पूछताछ के बाद ही बाकी के 6 लोगों को हिरासत में रखा गया है। बताया जाता है कि बुधवार को छापेमारी में इन 11 युवकों के पास से 15 लाख रुपए, 25 मोबाइल फोन, एक एयरगन, एयरगन की ट्रेनिंग के लिए टारगेट, बम बनाने के लिए नट बोल्ट, नाइट्रेट कैमिकल और आईइडी की बरामदगी हुई है।

TOPPOPULARRECENT