Wednesday , October 18 2017
Home / Khaas Khabar / मक्का चोटी इजलास का कल आग़ाज़ मियांमार में मुस्लमानों की नसल कुशी सर-ए-फ़हरिस्त एजंडा

मक्का चोटी इजलास का कल आग़ाज़ मियांमार में मुस्लमानों की नसल कुशी सर-ए-फ़हरिस्त एजंडा

आलम-ए-इस्लाम में इत्तिहाद की कोशिशों के तौर पर ख़ादिम हरमैन शरीफ़ैन शाह अबदुल्लाह ने मक्ता उल-मुकर्रमा में 14 से 15 अगस्त दो रोज़ा इस्लामी यगानगत चोटी इजलास तलब किया है ।

आलम-ए-इस्लाम में इत्तिहाद की कोशिशों के तौर पर ख़ादिम हरमैन शरीफ़ैन शाह अबदुल्लाह ने मक्ता उल-मुकर्रमा में 14 से 15 अगस्त दो रोज़ा इस्लामी यगानगत चोटी इजलास तलब किया है ।

ऐसे वक़्त जबकि इस चोटी इजलास की तमाम तैय्यारीयां पूरी हो चुकी हैं और आग़ाज़ के लिए सिर्फ 2 दिन बाक़ी रह गए हैं , मियांमार मर्कज़ी मौज़ू बनता जा रहा है और उसे कान्फ़्रैंस के एजंडा में सर-ए-फ़हरिस्त रखा जाएगा ।

मियांमार मैं रोहनगया मुस्लमानों की नसल कुशी के ख़िलाफ़ आलम इस्लाम में शदीद बेचैनी पाई जाती है और मियांमार की फ़ौज जिंटा पर बैन-उल-अक़वामी-ओ-इस्लामी रीलीफ़ एजैंसीयों को अराख़ान सूबा तक रसाई की इजाज़त देने पर दबाव डाला जा रहा है जहां मुस्लिम आबादी का मुहासिरा किया गया है ।

मियांमार का दौरा करने वाले दो अहम वफ़ूद ने जारीया हफ़्ता जिंटा की आला क़ियादत में पाई जाने वाली बेचैनी और मायूसी का इन्किशाफ़ किया है । इस के इलावा वफ़द ने बनदोबा पनाह गज़ीं कैंप(रिफयूजी कैंप) का दौरा किया जहां रोहनगया के 8 हज़ार 5 सौ से ज़ाइद मुतास्सिरा मुस्लमान पनाह लिए हुए हैं ।

इस वफ़द को रोहनगया के मुस्लमानों के साथ दरपेश मसाइल और हुक्काम के रवैय्या के बारे में वाक़फ़ीयत हासिल हुई । वफ़द ने कई मुतास्सिरीन से बात की और एक मरहला पर वज़ीर-ए-आज़म तुर्की की अहलिया मुस्लिम ख़वातीन पर होने वाले मज़ालिम की दास्तान सुन कर अपने आँसू ज़बत नहीं कर सकी थीं ।

दावत गुलो ने बाद अज़ां कहा कि वो मक्का चोटी इजलास में मुस्लिम क़ाइदीन को हक़ायक़ से वाक़िफ़ करायेंगे । ओ आई सी के नुमाइंदे ने कहा कि मियांमार की फ़ौजी क़ियादत बशमोल सदर-ओ-सूबा अराख़ान के सरबराह के ख़िलाफ़ हेग में जंगी जराइम का मुक़द्दमा चलाने केलिए दबाव डाला जाना चाहीए ।

इस के इलावा हमें अक़वाम-ए-मुत्तहिदा सलामती कौंसल और अक़वाम-ए-मुत्तहिदा इंसानी हुक़ूक़ कौंसल से भी रुजू होना चाहीए । तंज़ीम इस्लामी कान्फ़्रैंस के जिस वफ़द ने मियांमार का दौरा किया उस की क़ियादत इंडोनेशिया के साबिक़ सदर यूसुफ़ कल्ला कर रहे थे ।

इस वफ़द ने सदर मियांमार से मुलाक़ात करते हुए आलम इस्लाम में पाई जाने वाली ब्रहमी से उन्हें वाक़िफ़ कराया था ।

TOPPOPULARRECENT