Thursday , October 19 2017
Home / Hyderabad News / मक्का मस्जिद की 23696 मुरब्बा गज़ अराज़ी का सर्वे कराने का एलान

मक्का मस्जिद की 23696 मुरब्बा गज़ अराज़ी का सर्वे कराने का एलान

सेक्रेट्री महकमा अक़लीयती बहबूद जनाब उमर जलील आई ए एस और जनाब शेख मुहम्मद इक़बाल आई पी एस ने आज मक्का मस्जिद का दौरा किया और इस दौरे में जहां दोनों आला ओहदेदारों ने मक्का मस्जिद का तफ़सीली जायज़ा लिया वहीं मुलाज़मीन को उन की तनख़्वाह

सेक्रेट्री महकमा अक़लीयती बहबूद जनाब उमर जलील आई ए एस और जनाब शेख मुहम्मद इक़बाल आई पी एस ने आज मक्का मस्जिद का दौरा किया और इस दौरे में जहां दोनों आला ओहदेदारों ने मक्का मस्जिद का तफ़सीली जायज़ा लिया वहीं मुलाज़मीन को उन की तनख़्वाहों में जल्द से जल्द इज़ाफ़ा करने का त्यक्क़ुन दिया।

इन दोनों ओहदेदारों के इस त्यक्क़ुन और वाअदा पर मुलाज़मीन के चेहरों पर ख़ुशीयां बिखर गईं। जनाब उमर जलील और जनाब शेख मुहम्मद इक़बाल ने ये भी एलान किया कि मक्का मस्जिद की अराज़ी और इस के तहत की मौक़ूफ़ा जायदादों का अनक़रीब सर्वे किया जाएगा।

ये दोनों आला ओहदेदार मुहाजरीन कैंप के 155 मकानात और उन के किरायों के बारे में जान कर हैरतज़दा रह गए। इस बात का भी पता चला कि 50 रुपये किराया होने के बावजूद चंद किराया दार एक तवील अर्सा से किराया अदा नहीं कर रहे हैं।

जनाब उमर जलील और जनाब शेख मुहम्मद इक़बाल ने मीडिया से बात करते हुए बताया कि मक्का मस्जिद के गुसुलखाना का दूसरा दरवाज़ा किस के क़ब्ज़ा में है इस का पता लगाकर कार्रवाई की जाएगी। जब उन की तवज्जा पंच महल्ला की जानिब से रास्ता खोलने पर मर्कूज़ करवाई गई तो इन सरकारी ओहदेदारों ने कहा कि बहुत जल्द सलाहो मश्वरा के बाद ही इस ज़िमन में फैसला किया जाएगा। यहां इस बात का तज़किरा ज़रूरी होगा कि मक्का मस्जिद की तफ़सीलात की जो तख़्ती है इस पर अंग्रेज़ी, तेलुगु वगैरा में तफ़सीलात दर्ज हैं।

इस बारे में महकमा अक़लीयती बहबूद ने मस्जिद के बाबुल दाखिला पर उर्दू में तफ़सीलात पर मुश्तमिल एक बोर्ड लगाने का एलान किया। इस मौक़ा पर स्पेशल सेक्रेट्री महकमा अक़लीयती बहबूद और स्पेशल ऑफीसर ने मक्का मस्जिद के मुशाहिदा के लिए आने वाली गैर मुस्लिम ख़ातून सैयाहों के लिए चादरें रखने की भी बात की और कहा कि इस से मस्जिद का एहतिराम होगा।

इस दौरे की सब से अच्छी बात ये रही कि जनाब उमर जलील ने मक्का मस्जिद में तामीर और मुरम्मत के लिए 20 लाख रुपये मंज़ूर किए। उम्मीद है कि इस रक़म से मस्जिद में तामीर और मुरम्मत के काम अनक़रीब शुरू होंगे।

TOPPOPULARRECENT