Monday , September 25 2017
Home / Bihar/Jharkhand / मगध यूनिवर्सिटी में जेएनयू जैसे हालात बनाने की कोशिश!

मगध यूनिवर्सिटी में जेएनयू जैसे हालात बनाने की कोशिश!

बोधगया : मगध यूनिवर्सिटी (एमयू) के तालीम डैरेक्टर के राधाकृष्णन सभागार में जुमा को मुनाक्किद आल इंडिया स्टूडेंट्स कौंसिल की तरफ से मुनाक्किद सेमिनार का एमयू के फिजियोथेरेपी के दो स्टूडेंट्स की गिरफ्तारी को लेकर एमयू मेें हंगामा कर रहे स्टूडेंट्स तंज़ीम के लीडरों ने मुखालिफत किया।

इन स्टूडेंट्स लीडरों ने अभाविप को सेमिनार के लिए सभागार मुहैया कराने को लेकर हंगामा भी किया। इत्तिला पाकर पुलिस फ़ोर्स के साथ पहुंचे मगध यूनिवर्सिटी थाना सदर जयशंकर कुमार ने सेमिनार का जायजा लिया और मगध यूनिवर्सिटी स्टूडेंट्स यूनियन के सदर रामानंद यादव व मधुरेंद्र मनोहर वगैरह कार्कुनान से बातचीत की। साथ ही थाना सदर ने राधाकृष्णन सभागार में तैनात प्राइवेट सिक्यूरिटी मुलाजिम को हर पल अलर्ट रहने की हिदायत दिया।

कुछ स्टूडेंट्स तंजीम के लीडरों की तरफ से सेमिनार का मुखालिफत किये जाने पर स्टूडेंट्स यूनियन के कार्कुनान वंदे मातरम, एमयू में दादागिरी नहीं चलेगी वगैरह नारे लगाते हुए एमयू के रजिस्ट्रार प्रो सीताराम सिंह के चैंबर में पहुंच गये। रजिस्ट्रार के चैंबर में नारेबाजी की इत्तिला मिलते ही चांसलर प्रो (डॉ) कृतेश्वर प्रसाद, डीएसपी (कानून निजाम) सतीश कुमार व मगध यूनिवर्सिटी थाना सदर जयशंकर कुमार भी वहां पहुंचे और कार्कुनान की शिकायत सुनी। इसी दरमियान यूनियन के रियासती सदर दीपक कुमार भी वहां पहुंच गये।

मगध यूनिवर्सिटी स्टूडेंट्स तंजीम के सदर रामानंद यादव ने प्रतिकुलपति व रजिस्ट्रार से कहा कि क्या एआइएसएफ (अॉल इंडिया स्टूडेंट्स फेडरेशन) व स्टूडेंट्स राजद के छुटभैये लीडर एमयू में जेएनयू जैसे हालात पैदा करना चाहते हैं। अगर, तालीमी मामलों को लेकर सेमिनार हो रहा है, तो इन दोनों तंजीमों को इसमें क्या एतराज़ हो रही है। क्या किसी तंज़ीम को सेमिनार करने की इजाजत इन्हीं दोनों तंजीमों से लेनी होगी। एआइएसएफ व स्टूडेंट्स राजद के लीडरों का स्टेटस ही देख लीजिए। उनके पास रुपये कहां से आते हैं। स्टूडेंट्स फेडरेशन के कार्कुनान हमेशा जमीन से जुड़ कर कामकाज करते हैं। दर्जनों बार एमयू में मुजाहिरा हुआ, लेकिन कभी भी फेडरेशन के कार्कुनान ने तोड़-फोड़ व कानून को हाथ में लेकर मुजाहिरा नहीं किया। ऐसे तंजीमों के लीडरों को एमयू इंतेजामिया निशाँदेहीं कर सख्त कार्रवाई करे।
 

TOPPOPULARRECENT