Tuesday , October 17 2017
Home / Education / मदरसों के छात्रों के ‘साइंस’ में रुचि धार्मिक उग्रवाद का खात्मा कर रही है

मदरसों के छात्रों के ‘साइंस’ में रुचि धार्मिक उग्रवाद का खात्मा कर रही है

अलीगढ़: (प्रेस विज्ञप्ति) प्रमुख अंतरराष्ट्रीय जर्नल Social Episteomology में प्रकाशित CEPECAMI के वरिष्ठ साइंस फेलो मोहम्मद जकी किरमानी के शोध लेख में बेहद रोमांचक मीलानात और संभावनाएँ प्रकट हुए हैं जो अपने अनुभव की उपयोगिता और उसे बड़े पैमाने पर करने की आवश्यकता प्रकट होती है.

रिसर्च से पता चलता है कि मदरसों के छात्र जिनका कुछ इस्लामी शब्दों जैसे जिहाद और शहादत का शैदाई होना शुद्ध प्राकृतिक और तार्किक है वह वैज्ञानिक अनुसंधान द्वारा कुरान की शिक्षा के जाँच में वह शौक़ और आध्यात्मिक रुचि महसूस कर सकते हैं जो कुरान की उक्त शब्दों का खासा है। इस की एक मुख्य कारण इस लेख में बताया गया है कि वह कुरान की भाषा से परिचित होने के आधार पर इन शब्दों से उनकी अभिविन्यास सीधे होती है.

डॉक्टर किरमानी ने ब्रह्मांड की उत्पत्ति, विकास जीवन, आदम और सामाजिक विमर्श विकास जैसे मुद्दों पर और साइंसी  और कुरान शैली अनुसंधान और इससे संबंधित संसाधन और कार्यशैली की तुलना को भी इस अध्ययन का विषय बनाया है और कुछ बड़े दिलचस्प परिणाम पृष्ठभूमि में इन छात्रों के साथ यह शोध अध्ययन तैयार किया है। शोध के अनुसार विज्ञान परम रूप में कोई परिणाम प्रदान नहीं करती बल्कि एक वैज्ञानिक अनुसंधान के स्वास्थ्य की मांग ही यही है कि उसे भविष्य में गलत साबित किया जा सके।

कुछ ऐसी वैज्ञानिक जांच जो कुरान के मानव समझ से टकराती दिखती हैं उपरोक्त पृष्ठभूमि में वैज्ञानिक शौक़ बढ़ाने का जरिया बनती हैं न कि इसका विरोध का। इस बढ़ती रुचि का स्पष्ट अभिव्यक्ति था जब आधे से अधिक छात्रों ने विज्ञान में करियर बनाने की प्रतिबद्धता जताई।

TOPPOPULARRECENT