Saturday , October 21 2017
Home / India / मनमोहन-शरीफ़ मुज़ाकरात मंसूख़ करने बी जे पी का मुतालिबा

मनमोहन-शरीफ़ मुज़ाकरात मंसूख़ करने बी जे पी का मुतालिबा

कारगिल हमlले के बाद वाजपाई की पाकिस्तान से बातचीत का कांग्रेसी हवाला, दहश्तगर्द हमले पर रद्द-ए-अमल

कारगिल हमlले के बाद वाजपाई की पाकिस्तान से बातचीत का कांग्रेसी हवाला, दहश्तगर्द हमले पर रद्द-ए-अमल

हुकूमत को बुज़दिली की सिफ़ारत कारी तर्क करदेने का मुतालिबा करते हुए बी जे पी ने कहा कि जम्मू के इलाक़े में दहश्तगर्द हमले के पेशे नज़र वज़ीर-ए-आज़म को वज़ीर-ए-आज़म पाकिस्तान से इतवार के मुक़र्रर मुज़ाकरात मंसूख़ करदेने चाहीए। पुलिस और फ़ौज पर हमले की मज़म्मत करते हुए सदर बी जे पी राजनाथ सिंह ने कहा कि ये हमले हिन्दुस्तान दुश्मन ताक़तों की जानिब से जो पाकिस्तान से सरगर्म हैं, किए गए हैं। उन्होंने कहा कि इस मरहले पर बुज़दिली की सिफ़ारत कारी पर अमल आवरी से हिन्दुस्तान नरम चारा बन जाएगा जिस पर कोई भी छोटा या बड़ा मुल्क दबाओ डाल सकता है।

सदर बी जे पी ने अपने बयान में कहा कि इस से ये भी तास्सुर पैदा होगा कि बाअज़ क़दमतपसंद सियासी मुफ़ादात हासिला रखने वाले अनासिर हमारे क़ौमी मुफ़ाद का तहफ़्फ़ुज़ नहीं कररहे हैं। उन्होंने कहा कि बी जे पी को यक़ीन है कि पाकिस्तान के साथ उस वक़्त तक मुज़ाकरात बेफ़ाइदा होंगे जब तक के लिए उन के लिए साज़गार माहौल पैदा ना होजाए। उन्होंने कहा कि आई ऐस आई और पाकिस्तानी फ़ौज जहां दोस्तान की दाख़िली और ख़ारिजी सयानत को ग़ैर मुस्तहकम करने मुसलसल कोशां हैं।

दरहक़ीक़त पाकिस्तान के रवैया में कोई तबदीली नहीं आई है। उन्होंने यू पी ए हुकूमत पर इल्ज़ाम आइद किया कि वो दहश्तगर्दी के ख़िलाफ़ गुज़िश्ता कई साल से कमज़ोरी का मुज़ाहरा कररही है जिसकी वजह से दहश्तगरदों के हौसले बुलंद होगए हैं और वो कहीं भी हमले करसकते हैं। उन्होंने कहा कि अख़बारी इत्तेलाआत के बमूजब मनमोहन सिंह ने वज़ीर-ए-आज़म पाकिस्तान से मुज़ाकरात मंसूख़ करने का कोई इरादा ज़ाहिर नहीं किया है।

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की नई नवाज़ शरीफ़ हुकूमत को कुछ मोहलत की ज़रूरत है ताकि बातचीत का माहौल तैयार कर सके। उन्होंने कहा कि एन डी ए दौर-ए-हकूमत में हिंदूस्तान ने पाकिस्तान के साथ ताक़तवर मौक़िफ़ में बातचीत की थी और ईस्लामाबाद आलामीया हासिल किया था जिस में याक़ीन‌ दिया गया था कि पाकिस्तानी सरज़मीन से कोई दहश्तगर्द कार्रवाई नहीं की जाएगी।

कांग्रेस के तर्जुमान जनरल सेक्रेटरी दिग्विजय‌ सिंह ने एक प्रेस कान्फ्रेंस से ख़िताब करते हुए कहा कि नवाज़ – मनमोहन मुज़ाकरात मंसूख़ करने से दहश्तगरदों का मक़सद हासिल हो जाएगा। इस लिए वज़ीर-ए-आज़म के अपने पाकिस्तानी हम मंसब को बातचीत मंसूख़ करने का सवाल ही पैदा नहीं होता। उन्होंने याददेहानी की कि अटल बिहारी वाजपाई हुकूमत ने कारगिल हमले के बाद भी हकूमत-ए-पाकिस्तान से बातचीत की थी।

TOPPOPULARRECENT