Tuesday , October 17 2017
Home / World / मरासल्ह् स्कैंडल का मक़सद नफ़रत के बीज बौना

मरासल्ह् स्कैंडल का मक़सद नफ़रत के बीज बौना

ईस्लामाबाद २३ नवंबर ( पी टी आई ) पाकिस्तानी सफ़ीर बराए अमरीका हुसैन हक़्क़ानी ने जो ओबामा नज़म-ओ-नसक़ के साथ खु़फ़ीया मुरासलत की बिना पर तनाज़ा का मर्कज़ बन गए हैं, कहा कि इन के ख़्याल में ये मसला सीवीलीयन और फ़ौजी क़ियादत को एक दूसरे का मुख़

ईस्लामाबाद २३ नवंबर ( पी टी आई ) पाकिस्तानी सफ़ीर बराए अमरीका हुसैन हक़्क़ानी ने जो ओबामा नज़म-ओ-नसक़ के साथ खु़फ़ीया मुरासलत की बिना पर तनाज़ा का मर्कज़ बन गए हैं, कहा कि इन के ख़्याल में ये मसला सीवीलीयन और फ़ौजी क़ियादत को एक दूसरे का मुख़ालिफ़ बनाने और नफ़रत के बीज बौने के मक़सद से पैदा किया गया है ।

पाकिस्तानी सफ़ीर ने रोज़नामा दी न्यूज़ से बातचीत करते हुए कहा कि उन्हों ने बेहतर अमरीका । पाक ताल्लुक़ात के लिए सख़्त मेहनत की है और खु़फ़ीया मुरासलत के सिलसिला में किसी भी किस्म के चैलेंज और तहक़ीक़ात का सामना करने तैय्यार हैं।

यहां तक कि अपने ओहदा से अलहदा होने के लिए भी ज़हनी तौर पर तैय्यार हैं। उन्हों ने मज़ीद कहा कि वो माज़ी में भी ख़िदमत से ही दिलचस्पी रखते थे और आज भी यही चाहते हैं । वो दस्तावेज़ जिस का मंसूर एजाज़ ने मुबय्यना तौर पर बरसर-ए-आम ज़िक्र किया है कि हकूमत-ए-पाकिस्तान फ़ौज के इक़तिदार पर इमकानी क़बज़ा से बचने केलिए अमरीकी इमदाद की तालिब थी ।

हक़्क़ानी के बमूजब बाज़ लोगों की राय में ये ग़लती थी क्योंकि वो अमरीका दुश्मन ज़हनीयत के हामिल हैं । उन्हों ने कहा कि वो पाकिस्तान से मुहब्बत करते हैं जबकि मंसूर एजाज़ पाकिस्तान को सबक़ सिखाने की बातें कर रहे हैं ।

हुसैन हक़्क़ानी ने सवाल किया कि क्या मौजूदा मरहले पर उन पर अंगुश्तनुमाई दरुस्त होगी क्योंकि वो इन इल्ज़ामात को एहमीयत नहीं देते जो पाकिस्तान को सबक़ सिखाना चाहते हैं और इस मुल्क को फ़ौज और आई ऐस आई और दहश्तगर्द तंज़ीमों का मर्कज़ क़रार देते हैं ।

उन्हों ने इद्दिआ किया कि मंसूर एजाज़ पाकिस्तान दुश्मन हैं । उन्हों ने कहा कि अगर मंसूर एजाज़ के तमाम दावे दरुस्त भी हूँ तो उन के पास अब भी इस बात का जवाब नहीं है कि उन्हों ने एक खु़फ़ीया दस्तावेज़ का अफ़शा-ए-क्यों किया है ? उन्हों ने ज़राए इबलाग़ से ख़ाहिश की कि वो मंसूर एजाज़ जैसी गेरा हम शख़्सियतों को इतनी एहमीयत क्यों दे रहे हैं , जिन से ज़राए इबलाग़ माज़ी में कभी वाक़िफ़ नहीं था और ना कभी किसी ने इन से मुलाक़ात की थी लेकिन आज उन के इंटरव्यू पर इंटरव्यू लिए जा रहे हैं।

TOPPOPULARRECENT