Saturday , October 21 2017
Home / Islami Duniya / मर्दों के बराबर नहीं हैं ख्वातीन : तुर्की सदर

मर्दों के बराबर नहीं हैं ख्वातीन : तुर्की सदर

तुर्की के सदर रेसेप तेयिप एर्दोगन ने आज कहा कि ख्वातीन मर्दों के बराबर नहीं है और तुर्की की Female litigants के खिलाफ हमला करते हुए दावा किया कि वे Motherhood की तसव्वुर को ही खारिज करती हैं |

तुर्की के सदर रेसेप तेयिप एर्दोगन ने आज कहा कि ख्वातीन मर्दों के बराबर नहीं है और तुर्की की Female litigants के खिलाफ हमला करते हुए दावा किया कि वे Motherhood की तसव्वुर को ही खारिज करती हैं |

‘ख्वातीन के लिए इंसाफ ’ मौज़ू पर इस्तांबुल में मुनाकिद एक कांफ्रेंस में सदर ने कहा कि ख्वातीन और मर्दों में जो हयाती फर्क हैं उनका मतलब है कि ज़िंदगी में दोनों एक सा काम नहीं कर सकते|

अपनी बेटी सुमेये समेत नाज़रीन में बैठी तुर्की ख्वातीन को एर्दोगन ने कहा, ‘‘हमारे मज़हब (इस्लाम) ने मआशरे में ख्वातीन की हालत तय कर दी है.. मदरहुड |’’ उन्होंने कहा, ‘‘कुछ लोग इसे समझ सकते हैं, जबकि कुछ नहीं |आप Female litigants को यह नहीं समझा सकते हैं क्योंकि वे मदरहुड के क‍ंसेप्ट ( concept) को कुबूल ही नहीं करते |

’’ एर्दोगन ने याद करते हुए कहा, ‘‘मैं अपनी मां के पैर चुमा करता था क्योंकि वहां से जन्नत की खुशबु आती थी| वह कभी-कभी जज़्बाती होकर देखतीं और रो देतीं |’’ ‘ मां की ममता (motherhood) कुछ और ही है |

’’ सदर ने कहा कि मर्दों और ख्वातीन को एक सा (बराबर) नहीं माना जा सकता क्योंकि ‘‘यह नौइयत (Nature) के खिलाफ है|’’ उन्होंने कहा, ‘‘उनके किरदार, आदतें और जिस्मानी बनावट अलग हैं.. आप बच्चे को दूध पिलाने वाली खातून और मर्द को एक ही जुमरे में नहीं रख सकते हैं|’’ उन्होंने कहा, ‘‘आप ख्वातीन से हर वो काम नहीं करा सकते जो मर्द करते हैं, जैसा कि कम्युनिस्ट इक्तेदार में होता है|’’ एडरेगन ने कहा, ‘‘आप उन्हें बाहर जा कर मिट्टी खोदने को नहीं कह सकते हैं| यह उनकी नाज़ुक नौइयत के खिलाफ है|’’

TOPPOPULARRECENT