Monday , August 21 2017
Home / Delhi / Mumbai / महंगी दवाओं से छुटकारा। जन औषधि मेडिकल दुकानें

महंगी दवाओं से छुटकारा। जन औषधि मेडिकल दुकानें

नई दिल्ली:केंद्र सरकार एक कानून पर विचार कर रही है जिसके तहत डॉक्टरों पर सहसंबंध लगाया जाएगा कि वे जेनेरिक दवाएं सुझाव ताकि रोगी वाजिब कीमत पर दवाएं सरकारी मेडिकल दुकानों ”जन औषधि स्टोरस से हासिल कर सकें। यह डॉक्टरों से ब्रांडेड दवाओं को प्राथमिकता देने से निपटने के कानूनी तरीका है। जिस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आगामी बैठक में चर्चा करना चाहते हैं ताकि परियोजना के तहत 3 हजार ”जन औषधि स्टोरस’ राष्ट्रव्यापी स्तर पर इस साल स्थापित करने के प्रस्ताव पर प्रगति की समीक्षा की जा सके।

इस तरह केंद्रीय बजट में दिए हुए एक आश्वासन की पूर्ति होगी। सबसे बड़ी बाधा जो सामना करना पड़ा है कि डॉक्टर्स जेनेरिक दवाएं नुस्खा में प्रस्ताव नहीं करते जो जन औषधि स्टोरस पर उपलब्ध होती हैं। इस वजह से मरीजों को सही जेनेरिक वैकल्पिक दवाएं प्राप्त करने में कठिनाई पेश आती हैं।

एक अध्यादेश के शुभारंभ का सुझाव भी दिया गया है, ताकि संसद में इस बात को सुनिश्चित किया जा सके कि डॉक्टर्स जेनेरिक दवाएं सुझाव। इसमें एक वाक्यांश शामिल किया जाएगा कि ” या वैकल्पिक जेनेरिक दवा ” जब भी कोई ब्रांडेड दवा प्रस्ताव किया जाएगा, यह वाक्यांश इसके तहत लिखा जाएगा।

देखा गया है कि ब्रांडेड दवाओं की कीमत ब्रांडेड जेनेरिक दवाओं से 14 प्रतिशत तो 41 प्रतिशत 4 मामलों में अधिक होती है। चिलर विक्रेताओं को ब्रांडेड दवाओं पर 25 से 30 प्रतिशत लाभ होता है। 201 से 1016 प्रतिशत तक ब्रांडेड जेनेरिक दवाओं पर उपलब्ध है। नीति में परिवर्तन की जरूरत है ताकि जेनेरिक दवाओं की कीमतें अधिक कम की जाएं लेकिन गुणवत्ता ब्रांडेड और जेनेरिक दवाओं का समान रहेगा। इस बात की भी जरूरत है कि छोटे पैमाने पर निर्माण उद्योग मानक जेनेरिक दवाएं तैयार करें जिससे अच्छे उत्पादक प्रक्रिया में मदद मिलेगी। शिकायतें कम होंगी और गैर वित्तीय सहायता और वित्तीय सहायता प्रदान की जा सकेगी।

TOPPOPULARRECENT