Tuesday , October 17 2017
Home / Hyderabad News / महादेव मंदिर की तामीर रोकने हाई कोर्ट का हुकुम

महादेव मंदिर की तामीर रोकने हाई कोर्ट का हुकुम

आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट के कारगुज़ार चीफ जस्टिस पनाकी चंद्रा घोष और जस्टिस विलास अफ़ज़ल पुरकर ने ग्रेटर हैदराबाद म्युनिसिपल‌ कारपोरेशन और आसार क़दीमा को ये हिदायत दी कि वो अस्सिटैंट कमिशनर पुलिस चारमीनार के दफ़्तर से मुत्तसिल ज़ेर

आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट के कारगुज़ार चीफ जस्टिस पनाकी चंद्रा घोष और जस्टिस विलास अफ़ज़ल पुरकर ने ग्रेटर हैदराबाद म्युनिसिपल‌ कारपोरेशन और आसार क़दीमा को ये हिदायत दी कि वो अस्सिटैंट कमिशनर पुलिस चारमीनार के दफ़्तर से मुत्तसिल ज़ेर ए तामीर महादेव मंदिर का तामीरी काम फ़ौरी रोक देने का हुक्म जारी करें।

आग़ापूरा के एडवोकेट सय्यद खलील उल्लाह की तरफ से दरख़ास्त मफ़ाद-ए-आम्मा जिस का नंबर 393/2012 है, की समाअत के बाद हाइकोर्ट ने 9 सरकारी महिकमों के सरबराहों को वजह नुमा नोटिस जारी किया।

दरख़ास्त मफ़ाद-ए-आम्मा में दरख़ास्त गुज़ार ने ये इल्ज़ाम आइद किया था कि तारीख़ी चारमीनार के 100 मीटर के हदूद में महादेव मंदिर का तामीरी काम जारी है जो गैर क़ानूनी है।

दरख़ास्त गुज़ार ने अपने हलफनामा में ये बताया कि 4 जुलाई 1992 को हुकूमत की तरफ से जारी किए गए गज़्ट आलामीया के तहत तारीख़ी इमारतों के 100 मीटर के फ़ासले में किसी भी किस्म का तामीरी काम नहीं किया जा सकता लेकिन चारमीनार पुलिस स्टेशन और ए सी पी चारमीनार के दफ़्तर से मुत्तसिल महादेव मंदिर जो चन्दू लाल नामी शख़्स के मकान नंबर 21-1-216/1 है, गैरकानूनी , गैर दस्तूरी तामीरी काम किया जा रहा है।

हाईकोर्ट के डे वीज़न बंच ने 5 दिसमबर को जी हेच एम सी कमिशनर को ये अहकाम जारी किया कि वो मंदिर के तामीरी काम का मुआइना करें और इस सिलसिले में फ़िलफ़ौर रिपोर्ट दाख़िल करें।

6 दिसमबर को जी हेच एम सी के टाउन प्लानिंग सक्शन V और आसार क़दीमा की तरफ से हाइकोर्ट ने रिपोर्ट दाख़िल की गई जिस में मज़कूरा महिकमों ने ये बताया कि तामीरी काम के सिलसिले में मंदिर कमेटी और दुसरे मुताल्लिक़ा अफ़राद को वजह नुमाई नोटिस जारी की गई है।

हाइकोर्ट ने रिपोर्ट मौसूल होने के बाद आंध्र प्रदेश चीफ सैक्रेटरी , प्रिंसिपल सेक्रेटरी होम और रेवन्यू के अलावा डायरैक्टर जनरल पुलिस, कमिशनर पुलिस हैदराबाद , कमिशनर जी एच एम सी, कमिशनर इंडो मिनट, ज़िला कलैक्टर हैदराबाद और सपरनटनडनग ऑफीसर आसार क़दीमा से जवाबात तलब किए और इस केस की समाअत तीन हफ़्ते बाद मुक़र्रर की गई।

TOPPOPULARRECENT