Thursday , August 24 2017
Home / Delhi / Mumbai / महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए हुनरमंदी प्रशिक्षण

महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए हुनरमंदी प्रशिक्षण

नई दिल्ली: अल्पसंख्यक मामलों के तहत स्थापित राष्ट्रीय विकास और वित्तीय निगम एन एम डी एफ सी) अल्पसंख्यकों के शैक्षिक, सामाजिक और आर्थिक पिछड़ेपन को दूर करने के लिए आसान शर्तों पर कर्ज़‌ की विभिन्न योजनाएं चला रहे हैं जो के पर्याप्त परिणाम सामने आ रहे हैं। एन एम डी एफ सी के निदेशक शाहबाज अली ने बताया कि एजुकेशन लोन के तहत उनका संगठन देश में तकनीकी और व्यावसायिक पाठ्यक्रमों कयतकमील के लिए 15 लाख रुपये तक का कर्ज़‌ देता है जबकि विदेश जाकर शिक्षा प्राप्त करने वाले बच्चों को 20 लाख रुपये तक का ऋण प्रदान किया जाता है।

यह कर्ज मात्र 3 प्रतिशत वार्षिक ब्याज दर पर दिया जाता है और पढ़ाई पूरी होने पर पांच साल की आसान किश्तों पर यह राशि वापस की जा सकती है। उन्होंने बताया कि शिक्षा ऋण के तहत क्रेडिट लाइन। 2 के तहत देश में व्यावसायिक पाठ्यक्रमों के लिए छात्र-छात्राओं को 20 लाख और विदेशों में पढ़ने वाले बच्चों को 30 लाख रुपये तक का ऋण दिया जाता है। क्रेडिट लाइन के तहत महिलाओं को 3 प्रतिशत की छूट दी जाती है .मसटर शाहबाज अली ने बताया कि केंद्र सरकार के संस्थागत राष्ट्रीय अल्पसंख्यक विकास और वित्तीय निगम की स्थापना का एकमात्र उद्देश्य अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों को आसान शर्तों पर कर्ज़‌ प्रदान करके अपने बच्चों के लिए सीखने का रास्ता आसान बनाने के साथ ही उन्हें अपना रोजगार खुद के लिए भी कर्ज़‌ उपलब्ध कराना है। ताकि वे इससे लाभ करके समाज में सम्मानजनक जीवन बिता सके उन्होंने बताया कि छोटे रोजगार शुरू करने के लिए एन एम डी एफ सी एक लाख रुपये तक का कर्ज़‌ देता है जो वार्षिक 7 प्रतिशत ब्याज दर पर दिया जाता है।

इसी तरह विपणन की सहायक स्कीम के तहत कारीगरों और कलाकारों को विभिन्न प्रदर्शनियों में अपनी कला के नमूनों को बेचने के लिए आमंत्रित किया जाता है, जिसमें भाग लेने के लिए कारीगरों और कलाकारों व्यंजन का खर्च दिया जाता है। महिलाओं के लिए महेला समरधी योजना के तहत सिलाई, कढ़ाई, कटिंग, हाथ हथकरघा, बुनाई, कृदवज़ी आदि प्रशिक्षित महिलाओं को अपना व्यवसाय शुरू करने के लिए एन एम डी एफ सी कर्ज़‌ प्रदान कराता है और ऐसी महिलाओं को छह महीने प्रशिक्षण दौरान एक हजार रुपये मासिक छात्रवृत्ति के साथ उन्हें 1500 रुपये का अनुदान भी दिया जाता है। उन्होंने बताया कि इस साल नवंबर में प्रगति मैदान में शुरू होने वाले अंतरराष्ट्रीय व्यापार मेले में विशेष प्रदर्शनी ाहतमा किया जाएगा जिसमें अल्पसंख्यक वर्गों के लोगों के माध्यम से विकसित किया बुनना, कढ़ाई, लकड़ी के उपकरण, पीतल के उपकरण आदि प्रदर्शित की जाएगी।

TOPPOPULARRECENT