Thursday , August 17 2017
Home / Islam / महिलाओ के दरगाहो पर जाने की इस्लाम नही देता है इज़ाज़त -मुस्लिम धर्मगुरु

महिलाओ के दरगाहो पर जाने की इस्लाम नही देता है इज़ाज़त -मुस्लिम धर्मगुरु

मुंबई:हाजी अली दरगाह में औरतो के जाने की इज़ाज़त देने पे मुस्लिम धर्मगुरुओं ने एक सी राय देते हुयें कहा है कि इस्लाम में महिला मस्जिद में नमाज़ अदा कर सकती है लेकिन इस्लाम महिला को दरगाह में जाने की इज़ाज़त नही देता है

मौलाना खालिद फिरंगी महली ने इस बाबत राय देते हुयें कहा संविधान धर्म को आज़ादी देता है कि वो कायदे और कानून से देश में धर्म की शिक्षाओं को कर सकता है चुकी इस्लाम में महिलाओ के दरगाह में जाने पे मनाही है इसलियें संविधान के हिसाब से हमें हक है कि हम अपने बताये मज़हब की बातो को आजादी से कर सके .

Facebook पर हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करें

दारुल उलूम देवबंद ने भी औरतो के दरगाहो में जाने पे इस्लामिक नजरिये से मनाही वाली राय रखी है

इससे पहले बॉम्बे हाईकोर्ट ने एक ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए हाजी अली दरगाह पर महिलाओं के प्रवेश से पाबंदी हटा दी है शुक्रवार को ये ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए बॉम्बे हाईकोर्ट ने ट्रस्ट की ओर से दरगाह के भीतरी गर्भगृह में प्रवेश पर पाबंदी को गैरजरूरी माना और बैन हटा लिया

हाजी अली ट्रस्ट हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ अब सुप्रीम कोर्ट में अपील करेगा।

अपने फैसले में बॉम्बे हाईकोर्ट ने महिलाओं को हाजी अली दरगाह में मज़ार के भीतर तक जाने की अनुमति दे दी है। पहले महिलाओं को केवल बाहर तक ही जाने की इजाजत थी, अंदर मज़ार तक जाने की नहीं। इसके खिलाफ मुस्लिम महिला आंदोलन नाम की एक संस्था ने बॉम्बे हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर की थी। याचिका में कहा गया था कि जहां तक मर्द जा सकते हैं वहां तक औरतों को जाने की अनुमति क्यों नहीं है। इसी याचिका पर फैसले सुनाते हुए बॉम्बे हाई कोर्ट ने महिलाओं को दरगाह के भीतरी गर्भगृह तक जाने की अनुमति दी है।

TOPPOPULARRECENT