Monday , September 25 2017
Home / Featured News / मायावती को उत्तर प्रदेश में अगली सरकार का गठन करने का आश्वासन

मायावती को उत्तर प्रदेश में अगली सरकार का गठन करने का आश्वासन

लखनऊ: बसपा सुप्रीमो मायावती ने आज कहा कि उत्तर प्रदेश में उनकी पार्टी अगली सरकार बना होगा और साथ ही उन्होंने अपने समर्थकों को प्रतिद्वंद्वी दलों के संबंध में चेतावनी किया जिनके बारे में उन्होंने दावा किया कि वे जनता को गुमराह करने के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं। मायावती ने यहां पार्टी पदाधिकारियों की बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि ‘सरवो समाज’ (जनता) का समर्थन  के साथ बसपा को अगली सरकार के लिए फार्म विश्वास है लेकिन भाजपा, सपा और कांग्रेस अपने पूंजीपति हमनोउं के साथ जनता को भड़काने के मामले में हैं, इसलिए चुनाव प्रक्रिया के पूरा होने तक बदस्तूर सतर्क रहने की जरूरत है।

इस राज्य में अगले साल की शुरुआत राज्य विधानसभा के चुनाव निर्धारित हैं। बसपा प्रमुख ने चुनावी तैयारियों का जायजा लिया और लोगों से संपर्क के लिए पार्टी की जारीया प्रयासों का भी नोट किया। उन्होंने आरोप लगाया कि पूंजीवादी तत्वों के स्वामित्व वाले अखबारों और टीवी समाचार चैनलों, बीपी, सपा और कांग्रेस के पक्ष में अनुकूल माहौल पैदा कर रहे हैं और इस बारे में चुनावी सर्वे का सहारा लिया जा रहा है क्योंकि यही तरीका इन पार्टियों को सूझता है। सत्ताधारी समाजवादी पार्टी की आलोचना करते हुए मायावती ने कहा कि वह उनकी सरकार द्वारा आरंभ स्कीमात को नाम बदलकर अपने खुद के प्रोजेक्ट्स बताते हुए जनता से समर्थन प्राप्त करने की कोशिश कर रहे हैं।

उन्होंने सपा सरकार के तहत पुलिस और प्रबंधन पर आरोप लगाया कि कुप्रबंधन का दौर है जो लखनऊ में रविवार को उनकी महा रैली के दौरान भगदड़ हुआ और दो लोगों की जानें नष्ट हुई। पिछले दिनों मायावती ने दशहरा लखनऊ की दशहरा समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भागीदारी की पृष्ठभूमि में कहा था कि यह राजनीतिक उद्देश्य बरारी आधारित पहल हुई और उन्होंने प्रधानमंत्री पर गंभीर चोट की कि उन्होंने अपने भाषण में सेना के सर्जिकल हमला भूल कर दिया।

बसपा प्रमुख ने एक बयान में कहा कि प्रधानमंत्री ने अपने भाषण में आतंकवाद के संबंध में राम और जतायू का जिक्र तो किया लेकिन भारतीय सेना का उल्लेख करना भूल गए जिसने सफल शल्य हमले किए हैं। मायावती ने कहा कि दशहरा समारोह स्थल के आसपास बड़ी-बड़ी होर्डिंग्स लगाए गए जिनके जरिए प्रधानमंत्री को शल्य हमलों के असली हीरो के रूप में पेश किया गया जहां से साफ पता चलता है कि इस समारोह को राजनीतिक और चुनावी लाभ प्राप्त करने हेतु इस्तेमाल किया गया जो पूरी तरह से उचित नहीं।

TOPPOPULARRECENT