Sunday , October 22 2017
Home / World / मालद्वीप की नई हुकूमत में सात वुज़रा की शमूलीयत

मालद्वीप की नई हुकूमत में सात वुज़रा की शमूलीयत

मालद्वीप के नए सदर मुहम्मद वहीद हसन ने आज अपनी किए बिना में सात वुज़रा को शामिल किया जिन में मुल़्क की पहली ख़ातून अटार्नी जनरल और साबिक़ हुकमरान मामून अबदुल क़य्यूम के एक साथी भी शामिल हैं। उन्हों ने मुल्क में एक इत्तिहादी हुकूमत के

मालद्वीप के नए सदर मुहम्मद वहीद हसन ने आज अपनी किए बिना में सात वुज़रा को शामिल किया जिन में मुल़्क की पहली ख़ातून अटार्नी जनरल और साबिक़ हुकमरान मामून अबदुल क़य्यूम के एक साथी भी शामिल हैं। उन्हों ने मुल्क में एक इत्तिहादी हुकूमत के क़ियाम से क़बल अपने मौक़िफ़ को मुस्तहकम करने के इक़दामात का अमला आग़ाज़ कर दिया है ।

मिस्टर वहीद हसन ने मुल्क में सयासी बोहरान का ख़ातमा अमल में लाने और हालात को पुरसुकून बनाने केलिए अपने नए काबीनी साथियों का मुख़्तलिफ़ सयासी जमातों से इंतिख़ाब अमल में लाया है । मिस्टर वहीद हसन साबिक़ सदर मुहम्मद नशीद के नायब रह चुके हैं । मुहम्मद नशीद को गुज़शता हफ़्ते ड्रामाई अंदाज़ में इस्तीफ़ा के लिए मजबूर कर दिया गया था।

मिस्टर वहीद ने ख़ारिजी उमूर और फ़ैनानिस के क़लमदानों पर अभी कोई तक़ररात अमल में नहीं लाए हैं और हो सकता है कि वो मिस्टर मुहम्मद नशीद की मालद्वीप डेमोक्रेटिक पार्टी के अरकान को भी काबीना में शामिल करेंगे । मिस्टर मुहम्मद नशीद ने ताहम मुल्क में वहीद हसन की हुकूमत को क़बूल करने से इंकार कर दिया है ।

मिस्टर नशीद ने मुल्क में ताज़ा इंतेख़ाबात करवाने अपने मुतालिबा से दसतबरदारी इख्तेयार नहीं की है और उन्हों ने अमेरीका की इस अपील को भी मुस्तर्द कर दिया है कि कोई समझौता कर लिया जाए । उन्होंने यहां कल रात भी एक ज़बरदस्त रैली की क़ियादत की और मुतालिबा किया कि मुल्क में वस्त मुद्दती इंतेख़ाबात करवाए जाएं ताकि मुल्क के अवाम की हक़ीक़ी ख़ाहिशात का पता चल सके । मिस्टर नशीद ने अपने हामियों से ख़िताब करते हुए कहा कि हम चाहते हैं कि इंतेख़ाबात करवाए जाएं और हम इस के लिए मुहिम चलाएंगे ।

आज काबीना में शामिल किए गए नए अरकान में अज़ीमा शकोरा भी शामिल हैं जो मुल़्क की अटार्नी जनरल हैं । वो मालदेप में वज़ारत हासिल करने वाली पहली ख़ातून हैं। इत्तिफ़ाक़ की बात है कि उन्हें 2007 में मामून अबदुल क़य्यूम के दौर-ए-हकूमत में अटार्नी जनरल नामज़द किया गया था और वो इसवक़्त ये ओहदा हासिल करने वाली पहली ख़ातून थीं।

मिस्टर हसन ने अपनी हुकूमत में मुहम्मद हुसैन शरीफ मुंडो को भी शामिल किया है जो मिस्टर मामून अबदुल क़य्यूम की प्रो गिरे सेव पार्टी आफ़ मालदेप के तर्जुमान हैं। इस जमात ने मुल्क पर तीन दहों तक हुकूमत की थी । इस सवाल पर कि आया उन की काबीना में शमूलीयत मिस्टर मुहम्मद नशीद के इस इल्ज़ाम को दरुस्त साबित करती है कि इन की हुकूमत के ख़िलाफ़ मामून अबदुल क़य्यूम की जमात ने बग़ावत करवाई है मिस्टर मुंडो ने कहा कि वो हुकूमत में शामिल वाहिद जमात नहीं हैं ।

मिस्टर मुंडो को उमूर नौ जो अन्नान और स्पोर्टस का क़लमदान दिया गया है । इत्तेफ़ाक़ की बात है कि दाख़िला का क़लमदान मिस्टर मुहम्मद जलील अहमद को दिया गया है और वो भी साबिक़ा क़य्यूम हुकूमत से ताल्लुक़ रखते हैं। इन की काबीना के दूसरे अरकान में अहमद जमशेद ( सेहत-ओ-ख़ानदानी बहबूद ) अहमद मुहम्मद ( मआशी तरक़्क़ी ) और अहमद शमशीद ( ट्रांसपोर्ट-ओ-मुवासलात ) शामिल हैं। मिस्टर अहमद अदीब को स्यात् का क़लमदान दिया गया है जबकि असीम अहमद को वज़ीर तालीम मुक़र्रर किया गया है ।

TOPPOPULARRECENT