Friday , April 28 2017
Home / test / मालेगांव के मुशायरा आयोजकों का शायरों के साथ धोखाधड़ी

मालेगांव के मुशायरा आयोजकों का शायरों के साथ धोखाधड़ी

मुंबई। भारत की हर दिल अज़ीज़ शायरा लता हया इन दिनों मालेगांव में हुए मुशायरा के अयोजर्कों से रूठे हुए हैं क्योंकि कुछ लोगों ने उन्हें तीस दिसंबर को मुशायरा में तो बुलाया लेकिन मुआवजा नहीं दिया बल्कि चंदे की राशि भी खुद ही खा गए।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

न्यूज़ नेटवर्क समूह प्रदेश 18 के अनुसार लता हया ने मीडिया उर्दू के ईमेल आईडी से एक लेख सभी प्रमुख उर्दू अखबारों और पत्रिकाओं को भेजी है जिसमें मालेगांव के मुशायरा आयोजकों के खिलाफ मुकदमेबाजी करने की बात कही है। उन्होंने प्रेस विज्ञप्ति में लिखा है कि ” आजकल जैसा कि आप जानते हैं देश में जगह-जगह मुशायरों और कवि सम्मेलनों का आयोजन हो रहा है, विशेष रूप से बड़े शहरों में तो एक दिन में दो दो तीन तीन मुशायरे का आयोजन हो रहे हैं, इस लिहाज से प्रोफ़ेशनलस (पेशेवर) तथाकथित लोग भी मौके का फायदा उठाते हुए इस व्यवसाय में कूद पड़े हैं।

लेकिन अफसोस तब होता है जब यह तथाकथित ओरगनाईजरज़ मुशायरा पढ़ने के बाद शायरों के साथ उनके भेंट भुगतान में टालमटोल करते हैं और तय राशि से कम स्वीकार करने पर उन्हें मजबूर कर देते हैं, वह कवि जो अग्रिम भेंट प्राप्त कर चुके होते हैं वो तो मजे में वापस हो जाते हैं लेकिन वह कवि जो अग्रिम भेंट लेने के लिए राजी नहीं होते और ओरगनाईजरज़ पर भरोसा करके दूरदराज से उनके मुशायरा में पहुंचते हैं उनके साथ ओरगनाईजरज़ का यह व्यवहार गिरी हुई हरकत है। ”

हया लिखती हैं कि कुछ इस तरह का मामला मेरे साथ भी हुई, पिछली 30 दिसंबर को नासिक जिले के मालेगांव में मुशायरा आयोजित हुई, मुझे भी इसमें भाग लेने के लिए आमंत्रित किया गया, भेंट तय हुआ, उन दिनों मुंबई और महाराष्ट्र के अन्य क्षेत्रों में मुझे कई जगह निमंत्रण मिला लेकिन मालेगांव के मुशायरा वालों के कहने पर और मालेगांव के एक शायर वाहिद अंसारी (जो मुशायरा के आयोजन में सहयोगी थे) मुझे पर बेहद जोर दिया कि उनके इस मुशायरे में भागीदारी करूं, मैं और जगह के मुशायरों का इलाज स्थगित करते हुए इस मुशायरे में जाना तय किया और मुशायरे में शरीक हुई।

मुशायरे के अंत में सभी शायरों को घंटों तक मुआवजा (भेंट) का इंतजार करना पड़ा, कन्वेनर ने साजिद अख्तर के खाते का मुझे एक चेक दे दिया, इस बीच श्री वाहिद अंसारी भाग चुके थे, पता चला कि कुछ कवियों ने मुआवजा की वजह से उनकी पिटाई कर दी। मैंने चेक बैंक में जमा किया लेकिन वह चेक बाउंस हो गया, तब पता चला कि मेरे साथ धोखा हुआ है।

Top Stories

TOPPOPULARRECENT