Friday , October 20 2017
Home / World / माज़रत ख़्वाही के लिए पाकिस्तान से बंगला देश का मुतालिबा

माज़रत ख़्वाही के लिए पाकिस्तान से बंगला देश का मुतालिबा

ढाका २२ नवंबर (पी टी आई) बंगला देश ने 1971-ए-की जंग-ए-आज़ादी के दौरान पाकिस्तानी फ़ौज की जानिब से किए गए मज़ालिम पर इस (पाकिस्तान) से रस्मी तौर पर माज़रत ख़्वाही करने का मुतालिबा किया है।

ढाका २२ नवंबर (पी टी आई) बंगला देश ने 1971-ए-की जंग-ए-आज़ादी के दौरान पाकिस्तानी फ़ौज की जानिब से किए गए मज़ालिम पर इस (पाकिस्तान) से रस्मी तौर पर माज़रत ख़्वाही करने का मुतालिबा किया है।

ये मुतालिबा उस वक़्त किया गया जब पाकिस्तान के नए सफ़ीर ने वज़ीर-ए-ख़ारजा दीपू मोनी से मुलाक़ात की। दफ़्तार-ए-ख़ारजा की तर्जुमान ने पी टी आई से कहा कि वज़ीर-ए-ख़ारजा ने गुज़शता रोज़ पाकिस्तान से मुतालिबा किया कि वो इस मलिक के साथ तमाम देरीना मसाइल की यकसूई की कोशिश करे और बिलख़सूस 1971-ए-में बंगला जंग-ए-आज़ादी के दौरान पाकिस्तानी फ़ौज की जानिब से किए गए मज़ालिम और नसल कुशी के वाक़ियात पर ढाका से रस्मी तौर पर माज़रत ख़्वाही करॆ।

तर्जुमान ने मज़ीद कहा कि दीपू मोनी ने पाकिस्तान के नए हाई कमिशनर अफ़्रासियाब मह्दी हाश्मी से ये भी कहा कि असासों की तक़सीम और जंगी मसारिफ़ जैसे मसाइल को भी हल किया जाय और बिलख़सूस फ़ौरी नौईयत के हामिल मसाइल को हल करते हुए बंगला देश और पाकिस्तान के दरमयान मौजूदा दोस्ताना ताल्लुक़ात को मज़ीद मुस्तहकम बनाया जाय ताकि बाहमी तआवुन के वसी तर मौक़ों से इस्तिफ़ादा किया जा सकॆ।

दफ़्तार-ए-ख़ारजा के तर्जुमान ने क़ब्लअज़ीं कहा था कि दीपू मोनी ने पाकिस्तान में सेलाब के मुतास्सिरीन से दिल्ली हमदर्दी का इज़हार किया और अफ़्रासियाब के इस मौक़िफ़ की सताइश की कि अवाम से अवाम की सतह पर राबिता में इज़ाफ़ा की सूरत में दोनों मुल्कों की अवाम को एक दूसरे को समझने का बेहतरीन मौक़ा फ़राहम होगा और दोनों मुल्क मुख़्तलिफ़ शोबों में तआवुन बढ़ा सकेंगी।

TOPPOPULARRECENT