Tuesday , October 17 2017
Home / India / माॶसटों के लिए बातचीत के दरवाज़े खुले

माॶसटों के लिए बातचीत के दरवाज़े खुले

इस दौरान मर्कज़ी वज़ीर जय‌ राम रमेश ने आज माॶसटों से मुज़ाकरात में शामिल होने की अपील करते हुए कहा कि हुकूमत इसके लिए तैय्यार है। उन्होंने जल्सा-ए-आम में कहा, हम बातचीत के लिए रज़ामंद हैं। हमारे दरवाज़े खुले हैं। लेकिन माॶसटों को तश

इस दौरान मर्कज़ी वज़ीर जय‌ राम रमेश ने आज माॶसटों से मुज़ाकरात में शामिल होने की अपील करते हुए कहा कि हुकूमत इसके लिए तैय्यार है। उन्होंने जल्सा-ए-आम में कहा, हम बातचीत के लिए रज़ामंद हैं। हमारे दरवाज़े खुले हैं। लेकिन माॶसटों को तशद्दुद तर्क करना चाहीए।

हम उन से मुज़ाकरात के लिए बैठने की अपील करते हैं। ये बयान करते हुए बरक़रारी अमन के लिए पैरा मिल्ट्री फ़ोर्सस दरकार हैं, उन्होंने कहा, तशद्दुद का जवाब तशद्दुद नहीं होसकता है। उन्होंने कहा कि मुल्क में 82 अज़ला को माॶसट मुतास्सिरा क़रार दिया गया है जिनमें से तीन बनकोरा, पुरूलिया और वैस्ट मदनापोर मग़रिबी बंगाल में हैं।

मर्कज़ और सैंटर्ल पैरा मिल्ट्री फ़ोर्सस की मदद से ज़िला वैस्ट मदनापोर में लालगढ़ की सूरत-ए-हाल में तबदीली आई है।

TOPPOPULARRECENT