Friday , May 26 2017
Home / Maharashtra & Goa / मिल्ली समस्याओं के लिए संघर्ष करने वाला युवा बाबा सिद्दीकी उर्फ राशिद रहस्यमय तौर पर लापता

मिल्ली समस्याओं के लिए संघर्ष करने वाला युवा बाबा सिद्दीकी उर्फ राशिद रहस्यमय तौर पर लापता

औरंगाबाद: वक्फ संपत्तियों और मिल्ली समस्याओं को लेकर संघर्ष करने वाला बाबा सिद्दीकी उर्फ राशिद नामक एक युवक औरंगाबाद से दो दिन पहले रहस्यमय तरीके से लापता हो गया। पुलिस इस मामले की जांच में जुटी है लेकिन अभी तक गुमशुदगी की कोई एफआईआर दर्ज नहीं की गई है। लापता युवक के घरवालों ने राशिद के अपहरण किए जाने का आरोप लगाया है।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

प्रदेश 18 के अनुसार, वक्फ संपत्तियों की वापसी और मिल्ली समस्याओं में आगे रहने वाला युवा बाबा सिद्दीकी उर्फ राशिद 15 मार्च को दोपहर के बाद से लापता है। काफी तलाश के बाद राशिद की पत्नी ने छावनी पुलिस स्टेशन में गुमशुदगी की शिकायत दर्ज करवाई है। पुलिस लापता युवक का पता लगाने में जुटी है। राशिद की पत्नी का कहना है कि वह पंद्रह अक्टूबर को दोपहर साढ़े बारह बजे यह कह कर घर से निकले थे कि पीईएस कॉलेज प्रशासन के केयर टेकर दिलीप बनसोड़े से मुलाकात करने के लिए छावनी पुलिस स्टेशन जा रहे हैं। कुछ घंटों के बाद जब फोन लगाया गया तो फोन बंद था। देर रात भी राशिद घर नहीं लौटे। इस संबंध में पुलिस से संपर्क किया गया, लेकिन पुलिस वालों ने टालमटोल से काम लिया।

पन चक्की के पीछे पीईएस एजुकेशन सोसायटी के शैक्षिक संस्थान स्थापित हैं। इन संस्थाओं के पिछले हिस्से में लगभग दो एकड़ क्षेत्र को फैला हुआ एक प्राचीन कब्रिस्तान है। इस कब्रिस्तान में आज भी सैकड़ों साल पुरानी कब्र के आसार हैं। यहाँ नजाम शासनकाल की एक मस्जिद भी थी जो समय के साथ ढह गई। कब्रिस्तान की इस जमीन को पीईएस सोसायटी अपनी संपत्ति बता रही है जबकि वक्फ बोर्ड इसे वक्फ की संपत्ति बता रहा है। बाबा राशिद सिद्दीकी इस मामले को लेकर पिछले तीन साल से संघर्ष कर रहे थे, और सभी दस्तावेज प्राप्त करने में वे सफल रहे थे।

दस्तावेज के आधार पर वक्फ बोर्ड ने मस्जिद की नव निर्माण की अनुमति भी दे दी है। राशिद ने निर्माण कार्य शुरू करवाने के लिए मेटेरियल भी खरीद लिए थे। इसी सिलसिले में उन्हें दिलीप बनसोड़े के फोन से छावनी पुलिस स्टेशन बुलाया गया। लेकिन तब से राशिद सिद्दीकी का कोई पता नहीं है। राशिद सिद्दीकी की गुमशुदगी को लेकर अल्पसंख्यक हकलों में चिंता व्यक्त की जा रही है। इस पूरे मामले में पुलिस कुछ भी बोलने से बच रही है। पुलिस पर पक्षपात का आरोप भी लगाया जा रहा है।

Top Stories

TOPPOPULARRECENT