Sunday , October 22 2017
Home / Islami Duniya / मिस्र के बोहरान में इज़ाफ़ा , एहितजाजी अपने मौक़िफ़ पर अटल

मिस्र के बोहरान में इज़ाफ़ा , एहितजाजी अपने मौक़िफ़ पर अटल

क़ाहिरा २४ नवंबर (पी टी आई) मिस्र में ताज़ा तशद्दुद भड़क उठा है जबकि पूरा मुल़्क एक नए बोहरान से दो-चार हुआ है। हज़ारों मुवाफ़िक़ जमहूरीयत एहितजाजी अवाम पुलिस से मुतसादिम हो रहे हैं। बोहरान में शिद्दत पैदा होने के साथ ही तशद्दुद में 3 अफ

क़ाहिरा २४ नवंबर (पी टी आई) मिस्र में ताज़ा तशद्दुद भड़क उठा है जबकि पूरा मुल़्क एक नए बोहरान से दो-चार हुआ है। हज़ारों मुवाफ़िक़ जमहूरीयत एहितजाजी अवाम पुलिस से मुतसादिम हो रहे हैं। बोहरान में शिद्दत पैदा होने के साथ ही तशद्दुद में 3 अफ़राद हलाक हुई। गुज़श्ता पाँच दिन के दौरान हलाक होने वालों की तादाद 41 होगई।

एहितजाजी अवाम तहरीर उसको आवर छोड़ने से इनकार कर रहे हैं। ये मुक़ाम अवाम के कसीर इजतिमा के ज़रीया इन्क़िलाब बरपा करने केलिए एहमीयत रखता ही। फ़ौज की जानिब से रियायतें देने और रैफ़रंडम कराने की तजवीज़ को भी अवाम ने मुस्तर्द करदिया है।

इसी दौरान मिस्र में जारी मुज़ाहिरों के नतीजे में पैदा होने वाले तनाव को ख़तन करने के लिए फ़ौजी हुकमरान की तरफ़ से आइन्दा साल सदारती इंतिख़ाबात के इनइक़ाद और इक़तिदार की फ़ौरी मुंतक़ली के अवामी मुतालिबे पर रैफ़रंडम की पेशकश को मुज़ाहिरीन ने एक पुरफ़रेब हर्बा क़रार देते हुए मुस्तर्द कर दिया है।

फ़ील्ड मार्शल मुहम्मद हुसैन तनतावी नीक़ोम के नाम नशर अपने ख़िताब में कहा कि फ़ौजी क़ियादत ने सिवल काबीना का अस्तीफ़ा क़बूल कर लिया है। मिस्र में गुज़श्ता अवाख़िर हफ़्ता से जारी अवामी मुज़ाहिरों के तनाज़ुर में वज़ाहत करते हुए तनतावी ने कहा कि सुप्रीम कौंसल आफ़ आर्म्ड फॊर्सॆज् SCAF मुल्की इक़तिदार पर क़बज़ा करनेकी ख़ाहिश नहीं रखती है, हम अवामी उमंगों के मुताबिक़ इक़तिदार जल्द अज़ जल्द सिवल हुकूमत के सपुर्द करने को तैय्यार हैं। उन्हों ने मज़ीद कहा कि इस मक़सद के लिए अगर अवाम चाहती है तो रैफ़रंडम करवाया जा सकता है। ताहम मुज़ाहिरीन ने रैफ़रंडम को एक पुरफ़रेब हर्बा क़रार देते हुए मुस्तर्द कर दिया है।

गुज़श्ता दो दहाईयों तक साबिक़ सदर हसनी मुबारक के वज़ीर-ए-दिफ़ा रह चिकने वाले तनतावी ने कहा कि उन्हों ने वज़ीर-ए-आज़म इसाम शरफ़ का अस्तीफ़ा मंज़ूर कर लिया है और उन से दरख़ास्त की है कि जब तक नई हुकूमत तशकील नहीं दी जाती, वो अपनी ज़िम्मेदारीयां सँभाले रहॆ।

मिस्री अवाम का इल्ज़ाम है कि तनतावी मलिक को जमहूरीयत की राह पर गामज़न करने के बजाय फ़ौज की गिरिफ़त मज़बूत करना चाहते हैं। मुस्ताफ़ी हो जाने के मुतालिबात का सामना करने वाले तनतावी ने अपने ख़िताब में कहा कि दस्तूर साज़ असैंबली के लिए इंतिख़ाबात 28 नवंबर को ही मुनाक़िद किए जाऐंगे । अवामी मुतालिबात को मंज़ूर करते हुए उन्हों ने कहा कि मुल्की सदर का इंतिख़ाब आइन्दा बरस जून में कर लिया जाएगा।दूसरी तरफ़ दार-उल-हकूमत क़ाहिरा के इन्क़िलाबी अलतहरीर उसको आवर पर मुज़ाहिरीन की तादाद में इज़ाफ़ा होता जा रहा है।

ज़राए इबलाग़ की रिपोर्टों के मुताबिक़ गुज़श्ता रात वहां एक लाख अफ़राद ने फ़ौजी कौंसल केख़िलाफ़ मुज़ाहरा किया। इस मुज़ाहिरे में शरीक पच्चास साला इब्तिसाम ने बताया, कई महीनों से फ़ौजी क़ियादत ने मुल़्क की बागडोर सँभाली हुई है लेकिन इस ने अभी तक कुछ नहीं किया, इस लिए अब इस कौंसल के सरबराह को मुस्ताफ़ी हो जाना चाहिये।अहमद ममदूह नामी एक और नौजवान ने कहा, तनतावी, मुबारक है।

वो फ़ौजी वर्दी में मलबूस हसनी मुबारक है। गुज़श्ता रात भी अलतहरीर उसको आवर पर स्कियोरटी फ़ोर्सिज़ और मुज़ाहिरीन के माबैन तसादुम हुआ, लेकिन मुज़ाहिरीन बदस्तूर इस तारीख़ी उसको आवर पर क़बज़ा जमाए हुए हैं।सिदरहती इंतिख़ाबात के मुम्किना उम्मीदवार मुहम्मद अलबरादई ने स्कियोरटी फ़ोर्सिज़ की तरफ़ से ताक़त के नाजायज़ इस्तिमाल पर तबसरा करते हुए कहा है कि वो क़तल-ए-आम की मुर्तक़िब हो रही हैं।

गुज़श्ता पाँच दिनों से जारी इन नए मुज़ाहिरों के नतीजे में कम-अज़-कम 41 अफ़राद हलाक जबकि 1200से ज़ाइद ज़ख़मी हो चुके हैं।अमरीका और योरपी यूनीयन ने मिस्र की मौजूदा बोहरानी सूरत-ए-हाल पर तहफ़्फुज़ात का इज़हार करते हुए फ़ौजी कौंसल से कहा है कि अवाम केख़िलाफ़ क्रैक डाउन तर्क किया जाय और मुज़ाकरात से इस मुआमला को हल करने की कोशिश की जायॆ।

TOPPOPULARRECENT