Monday , July 24 2017
Home / Politics / मुख्तार अब्बास नकवी ने माना, पार्टी मुसलमानों को टिकट देती तो अच्छा होता

मुख्तार अब्बास नकवी ने माना, पार्टी मुसलमानों को टिकट देती तो अच्छा होता

NEW DELHI, SEP 27 (UNI):- MoS for Minority Affairs (I/C) and Parliamentary Affairs Mukhtar Abbas Naqvi and Md. Shahbaz Ali CMD, NMDFC during the launch of Interactive Voice Response System (IVRS) of National Minorities Development and Finance Corporation (NMDFC), at the inauguration of the Annual Conference of State Channelising Agencies, in New Delhi on Tuesday. UNI PHOTO-8U

लखनऊ: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में भाजपा ने 403 विधानसभा सीटों में से एक पर भी मुस्लिम उम्मीदवार को टिकट नहीं दिया. विपक्ष की आलोचना के बाद अब पार्टी के नेता भी इस पर सवाल उठाने लगे हैं. जल संसाधन मंत्री उमा भारती के बाद अब केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने भी कहा है कि पार्टी मुसलमानों को भी टिकट देती तो अच्छा होता. उन्होंने कहा कि भाजपा समाज के सभी वर्गों को साथ लेकर चलने में विश्वास रखती है और पार्टी की राज्य में सरकार बनने पर मुस्लिम समुदाय के लोगों को इसकी भरपाई की जाएगी. उन्होंने कहा कि जहां तक सवाल टिकट का है, तो स्थिति बेहतर हो सकती थी. इससे पहले केंद्रीय मंत्री उमा भारती और राजनाथ सिंह ने भी इसी तरह के बयान दिए थे.

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

प्रदेश 18 के अनुसार, मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि राज्य में सरकार बनने पर हम मुसलमानों की परेशानियों को दूर करेंगे और इसकी भरपाई की जाएगी. हालांकि उन्होंने यह नहीं बताया कि पार्टी इस मामले से किस तरह पेश आएगी. उन्होंने कहा कि भाजपा द्वारा मुसलमानों को टिकट न देने के आधार पर केंद्र सरकार के कामकाज को नहीं देखा जाना चाहिए. भाजपा समाज के सभी वर्गों को साथ लेकर चलने में विश्वास रखती है. हम ने सभी के सहयोग से केंद्र में सरकार बनाई. हम राज्य में भी सरकार बनाएंगे.
उमा भारती ने कहा था कि हमें मुसलमानों को सीटें देनी चाहिए थीं. मुझे सच में अफ़सोस है कि हम ऐसा नहीं कर सके. विधान परिषद में हम किसी तरीके से किसी मुस्लिम समाज के लोगों को ले आएंगे. यह मैं मौर्य जी और शाह जी से कहूँगी. राजनाथ जी ने भी यह बात स्वीकार की है और मैं भी यह बात स्वीकार करती हूँ. हम लोग उन्हें विधान परिषद में सीट दे सकते हैं.
पहले बहराइच में उमा भारती ने कहा था कि भारत में अल्पसंख्यकों की हमेशा रक्षा हुई है. हम पूर्वाग्रह की राजनीति नहीं करते हैं, लेकिन अगर मुसलमान बेटियों को छात्रवृत्ति मिले तो हिंदुओं को भी मिलना चाहिए.

TOPPOPULARRECENT