Wednesday , August 16 2017
Home / Politics / मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के सख्त कदम, समाजवादी पार्टी में फूट के आसार

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के सख्त कदम, समाजवादी पार्टी में फूट के आसार

लखनऊ : मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश अखिलेश यादव ने आज अमर सिंह मंत्रियों और अपने चाचा शिवपाल यादव को सरकार से बर्खास्त कर दिया। उनकी इस कार्रवाई के बाद समाजवादी पार्टी में लगभग फूट के आसार काफी बड‌ गए हैं। आज सुबह समाजवादी पार्टी में गड़बड़ तब हो गई जब मुख्यमंत्री ने यहां पार्टी लेजिसलेटर्स की बैठक बुलाई और राज्यपाल राम नाईक से सिफारिश की कि वह शिवपाल यादव, पासा राय और ओमप्रकाश (सभी कैबिनेट मंत्रियों) और सैदा शादाब फातिमा ( राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार) उनके मंत्रालय से हटा दिया।

राजभवन के बयान में कहा गया है कि राज्यपाल ने इस सिफारिश को तुरंत अज्यकदामी प्रभाव से स्वीकार कर लिया। राज्यसभा सदस्य अमर सिंह के समर्थकों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई करने के कारण मुलायम सिंह यादव शिविर के समर्थकों ने सपा प्रमुख के निवास पर जमा होकर हंगामा किया। मुख्यमंत्री के बंगले की पथ्थरबाज़ी की। इन सदस्यों ने आगामी रणनीति को क़तईयत देने की मांग की। यह तेजी से परिवर्तन पार्टी के सांसदों, विधायकों, सदस्यों परिषद और मंत्रियों के बडी बैठक से एक दिन पहले हुई हैं।

समाजवादी पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह यादव ने यह बैठक बुलाई है जिसमें कड़े फैसले किए जाने की संभावना है। राज्य में अगले साल की शुरुआत में आयोजित होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले आज परिवर्तन ने राजनीतिक हलकों में भूचाल मचा दिया है क्योंकि अखिलेश यादव और शिवपाल के बीच मतभेद गहरे पैदा हो गए। इससे स्पष्ट होता है कि समाजवादी पार्टी में फूट पड़ेगी और अखिलेश यादव अपनी नई पार्टी की स्थापना कर सकते हैं।

समाजवादी पार्टी के कुछ नेताओं ने सुझाव दिया कि एक नई पार्टी का नाम नेशनल समाजवादी पार्टी, प्रगति खोल सपा होगा जिसका चुनाव चिन्ह मोटर साइकिल है। यह नई पार्टी मुख्यमंत्री की ओर से शुरू की जाएगी। मुख्यमंत्री के घर‌ पर मुलाकात करने वाले पार्टी लेजिसलेटर्स ने उत्साह के मूड में कहा कि किसी भी प्रकार की कार्रवाई विधानसभा चुनाव से पहले अखिलेश यादव को किनारा कश किया जा सकता है।

अमर सिंह को दो महीने पहले ही पार्टी में शामिल किया गया था, जिसके बाद से इस तरह के हल्ला बोल कार्यों का सिलसिला शुरू हुआ है। पार्टी सूत्रों के मुताबिक अब समय आ गया है कि 43 वर्षीय अखिलेश यादव अपने चाचा 61 वर्षीय शिवपाल निकाल‌ दें। वह अपनी शक्तियों का उपयोग कर सकते हैं जो अपने पिता के अधिकार से अधिक कार्रवाई बन गया जिन्होंने समाजवादी पार्टी का नेतृत्व किया है और अपने बेटे पर शिवपाल यादव को प्राथमिकता देना शुरू किया है।

सूत्रों के अनुसार दोनों ओर अपनाई गई सख्त रुख के कारण समाजवादी पार्टी में फूट की संभावना प्रबल हो गए हैं। इस दौरान सपा नेता रामगोपाल यादव ने मुलायम सिंह यादव को पत्र लिखकर कहा है कि जो लोग अखिलेश यादव का विरोध कर रहे हैं वह विधानसभा का मुंह नहीं देखेंगे जहां केवल अखिलेश हैं और उनकी सफलता सुनिश्चित है। अखिलेश ही पार्टी के वास्तविक और सबसे लोकप्रिय नेता हैं।

यह परिवर्तन तब आया जब समाजवादी पार्टी 5 नवंबर को अपनी रजत जयंती समारोह मना रही है। इस जुबली समारोहों से अखिलेश यादव उपस्थित रहेंगे क्योंकि वह 3 नवंबर से अपनी रथयात्रा शुरू कर रहे हैं।

TOPPOPULARRECENT