Thursday , October 19 2017
Home / Khaas Khabar / मुजफ्फरनगर: हिंदू खातून ने बचाई 10 मुसलमानों की जान और अब …

मुजफ्फरनगर: हिंदू खातून ने बचाई 10 मुसलमानों की जान और अब …

बिहार के मुजफ्फरपुर जिले के सरैया थाना इलाके में पिछले दिनों हुए दंगे के वक्त जब लोग एक-दूसरे के खून के प्यासे होकर घूम रहे थे, उस वक्त एक ज़ईफ खातून ऐसी भी थी, जिसने इंसानियत की मिसाल पेश करते हुए दूसरे फिर्के के 10 लोगों को अपने घर मे

बिहार के मुजफ्फरपुर जिले के सरैया थाना इलाके में पिछले दिनों हुए दंगे के वक्त जब लोग एक-दूसरे के खून के प्यासे होकर घूम रहे थे, उस वक्त एक ज़ईफ खातून ऐसी भी थी, जिसने इंसानियत की मिसाल पेश करते हुए दूसरे फिर्के के 10 लोगों को अपने घर में छिपाकर उनकी जान बचाई। आज यह बुजुर्ग खातून उनके लोगों के लिए फरिश्ते से कम नहीं है।

सरैया थाना इलाके के अजीजपुर बलियारा गांव में एक नौजवान की लाश मिलने के बाद भडके दंगे में चार लोगों की मौत हो गई।
तशद्दुद भडकने के बाद लोग एक-दूसरे को जान से मारने पर उतारू थे। उस दौरान गांव की ही बेवा खातून देवी ने दूसरे फिर्के के करीब 10 लोगों को अपने घर में पनाह देकर उनकी जान बचाई।

देवी बताती हैं, नौजवान की लाश मिलने के बाद गुस्साए लोगों ने गांव में तो़डफोड, लूटपाट व मारकाट शुरू कर दी। कुछ लोगों ने अपनी जान बचाने के लिए मेरे घर पर दस्तक दी। इन लोगों में ख्वातीन व बच्चे भी शामिल थे। वह उन्हें घर के अंदर ले गईं और अपनी दो बेटियों के साथ खुद दरवाजे की निगरानी के लिए खडी हो गईं। उपद्रवी उनके घर पर भी पहुंचे, लेकिन उन्होंने घर में किसी के न होने की कसम खाकर सबको लौटा दिया।

उपद्रवियों के वहां से जाने के बाद घर में मौजूद लोगों की जान में जान आई। भीड के कहर से बचे बुजुर्ग आस मोहम्मद ने कहा, देवी हमारे लिए फरिश्ता बनकर आई। उनकी वजह से ही हमारी जान बच पाई। मगर देवी को अब अपनी सेक्युरिटी की फिक्र सता रही है, क्योंकि कुछ उपद्रवियों को पता चल गया है कि खातून ने अपने घर में कुछ लोगों को पनाह दी थी। देवी ने अपनी फिक्र जताते हुए कहा, “हमने तो गांव के ही लोग की जान बचाई ।इसमे मैने कौन सा ज़ुल्म किया। सब लोग कह रहे कि अब तुम्हारी जान जायेगी ”

मुकामी इंतेज़ामिया खातून को सेक्युरिटी देने के लिए तैयार है। मुजफ्फरपुर के सीनीयर पुलिस सुप्रीटेंडेट रंजीत कुमार मिश्र ने कहा, खातून को पूरी सेक्युरिटी दी जाएगी।

उन्होंने समाज के लिए एक मिसाल पेश की है। शैल देवी की बहादुरी की खबर आने के बाद वज़ीर ए आला जीतन राम मांझी ने उनसे मुलाकात कर 51 हजार रूपए का चैक सौंपा। काबिल ए ज़िक्र है कि अजीजपुर बलियारा गांव में इतवार के रोज़ एक नौजवान की लाश के बाद भडकी फिर्कावाराना दंगे में चार लोगों की मौत हो गई थी। कई घर फूंक दिए गए व तोडफोड की गई थी।

TOPPOPULARRECENT