Friday , September 22 2017
Home / Khaas Khabar / “मुझको वो मेरे नाम से पहचान तो गया”,पढ़ें ‘दाग़’ की ग़ज़ल

“मुझको वो मेरे नाम से पहचान तो गया”,पढ़ें ‘दाग़’ की ग़ज़ल

ख़ातिर से या लिहाज़ से मैं मान तो गया
झूठी क़सम से आप का ईमान तो गया

दिल ले के मुफ़्त कहते हैं कुछ काम का नहीं
उल्टी शिकायतें रही एहसान तो गया

अफ़्शा-ए-राज़-ए-इश्क़ में गो जिल्लतें हुईं
लेकिन उसे जता तो दिया, जान तो गया

देखा है बुतकदे में जो ऐ शेख कुछ न पूछ
ईमान की तो ये है कि ईमान तो गया

डरता हूँ देख कर दिल-ए-बेआरज़ू को मैं
सुनसान घर ये क्यूँ न हो मेहमान तो गया

क्या आई राहत आई जो कुंज-ए-मज़ार में
वो वलवला वो शौक़ वो अरमान तो गया

गो नामाबर से कुछ न हुआ पर हज़ार शुक्र
मुझको वो मेरे नाम से पहचान तो गया

होश-ओ-हवास-ओ-ताब-ओ-तवाँ ‘दाग़’ जा चुके
अब हम भी जाने वाले हैं सामान तो गया

(दाग़ दहेलवी)

TOPPOPULARRECENT