Saturday , June 24 2017
Home / Delhi News / मुझे सेवानिवृत्ति के लिए आवेदन करने को कहा गया था : तेजबहादुर यादव

मुझे सेवानिवृत्ति के लिए आवेदन करने को कहा गया था : तेजबहादुर यादव

बीएसएफ से बर्खास्त किए जा चुके जवान तेजबहादुर यादव ने कहा कि वह इस मामले को लेकर सरकार से अपील करेंगे। और अगर सरकार बात नहीं सुनती है तो वह कोर्ट जाएंगे। तेजबहादुर कोर्ट में वर्दी पहनकर ही अपने इंसाफ की लड़ाई लड़ेंगे।

 

 

तेजबहादुर बोले कि वह अपनी सैलरी में किसी प्रकार की बढ़ोतरी नहीं चाहते हैं, बल्कि वह चाहते हैं कि बस जवानों को अच्छा खाना मिले और समय पर छुट्टियां मिलती रहे। उन्होंने कहा कि वह कोशिश करेंग कि इस मसले पर प्रधानमंत्री मोदी से मिलूं। तेजबहादुर बोले कि पहले मुझे पेंशन और रिटायरमेंट के कागजात तैयार करने को कहा गया, लेकिन बाद में सीधा बर्खास्त कर दिया गया।

 

 

 

अब मुझे किसी भी प्रकार की पेंशन या रिटायरमेंट का फायदा नहीं मिलेगा। उन्होंने कहा कि मेरे साथ सही तरीके से ट्रायल नहीं किया गया है, मैं अपने साथी को गवाह के तौर पर पेश करना चाहता था लेकिन ऐसा नहीं हो सका। तेजबहादुर बोले कि मेरे वीडियो डालने के बाद खाने में लगभग 70 प्रतिशत तक सुधार आ चुका है. मुझे लगा कि वे लोग मुझे मार देंगे, लेकिन मीडिया ने मेरी जान बचाई।

 

 

 

 

तेजबहादुर की पत्नी ने कहा कि हमें पूरे देश और रेवाड़ी से इस मुद्दे पर काफी समर्थन मिला है। केंद्रीय मंत्री इंद्रजीत राव से मुलाकात की थी लेकिन उन्होंने कोई मदद नहीं की। वहीं तेजबहादुर के बेटे ने कहा कि वह कभी भी सेना में नहीं जाएगा, वहां काफी भ्रष्टाचार है, वह इंजीनियर बनना चाहता है।

 

 

 

 

 

गौरतलब है कि बुधवार को बीएसएफ ने जवान तेजबहादुर यादव को बुधवार को बर्खास्त कर दिया था। जांच में पाया गया था कि तेजबहादुर यादव के कारण बीएसएफ की छवि को नुकसान पहुंचा है। तेज बहादुर यादव ने सुरक्षा बलों को मिलने वाले खराब खाने का वीडियो सोशल मीडिया पर डाला था, जो कि वायरल हो गया था। वीडियो के वायरल होने के कारण इस मुद्दे पर काफी बवाल मचा था।

 

 

 

 

तेजबहादुर यादव को बीएसएफ से बर्खास्त करने के फैसले पर तेजबहादुर यादव की पत्नी शर्मिला ने कहा सरकार ने काफी गलत किया है। 20 साल से ऊपर की नौकरी के बाद बीएसएफ से बर्खास्त किए जाने का कदम काफी गलत है। तेज बहादुर यादव ने वीडियो में आरोप लगाया था कि बीएसएफ जवानों को मिलने वाली दाल और परांठे की क्वालिटी बेहद खराब है।

 

 

 

यादव का दावा था कि जवानों को मिलने वाले राशन में सीनियर अफसर धांधली कर रहे हैं। इसके बाद केंद्रीय गृह मंत्रालय ने जांच के आदेश दिए थे। बीएसएफ ने गृह मंत्रालय को सौंपी गई शुरुआती रिपोर्ट में यादव के आरोपों को सिरे से खारिज किया था।

 

 

 

हालांकि मामले की अंतिम रिपोर्ट अभी आनी बाकी है। लेकिन बीएसएफ ने गृह मंत्रालय को बताया है कि 29वीं बटालियन के किसी दूसरे जवान ने यादव के आरोपों की तस्दीक नहीं की थी।

Top Stories

TOPPOPULARRECENT