Sunday , October 22 2017
Home / District News / मुत्तहदा रियासत की तहरीक आख़िरी मरहले में दाख़िल

मुत्तहदा रियासत की तहरीक आख़िरी मरहले में दाख़िल

विजयवाड़ा के कांग्रेस रुकन लोक सभा लगड़ा पाटी राजगोपाल ने आंध्र प्रदेश के सीमांध्र इलाके से ताल्लुक़ रखने अवाम पर ज़ोर दिया कि वो मुत्तहदा रियासत की ताईद में जारी अपनी तहरीक में शिद्दत पैदा करदें।

विजयवाड़ा के कांग्रेस रुकन लोक सभा लगड़ा पाटी राजगोपाल ने आंध्र प्रदेश के सीमांध्र इलाके से ताल्लुक़ रखने अवाम पर ज़ोर दिया कि वो मुत्तहदा रियासत की ताईद में जारी अपनी तहरीक में शिद्दत पैदा करदें।

आंध्र प्रदेश जर्नलिस्ट्स फ़ोर्म के ज़ेरे एहतेमाम मुनाक़िदा एक राउंड टेबल कांफ्रेंस में हिस्सा लेते हुए लगड़ा पाटी ने कहा कि मुत्तहदा रियासत की तहरीक अब अपने आख़िरी मरहले में दाख़िल होगई है और सीमांध्र अवाम की तरफ से इस में शिद्दत पैदा करने की ज़रूरत है ताके रियासत की तक़सीम के ज़रीये अलाहिदा रियासत तेलंगाना के क़ियाम की कोशिशों को रोका जाये।

लगड़ा पाटी राजगोपाल ने सीमांध्र के चंद कांग्रेस अरकाने पार्लियामेंट के साथ इख़तियार करदा अपने मौक़िफ़ का इआदा करते हुए कहा कि वो पार्लियामेंट के बजट सेशन के दौरान आंध्र प्रदेश तक़सीम बिल के मुसव्वदा बिल पर बेहस होने नहीं देंगे।

उन्होंने दावे किया कि वो सीमांध्र इलाके के मुफ़ादात के तहफ़्फ़ुज़ के लिए पार्टी की तरफ से की जाने वाली किसी भी कार्रवाई का सामना करने के लिए तैयार हैं।

उन्होंने उम्मीद ज़ाहिर की के पार्लियामेंट तेलंगाना बिल पर उस की मौजूदा शक्ल में मज़ीद बेहस नहीं करेगा। इस मौके पर आंध्र प्रदेश नान गज़ीटीड ऑफीसरस एसोसीएशन (ए पी एन जी औज़ ) के सदर पी अशोक बाबू ने सीमांध्र के सियासी क़ाइदीन पर ज़ोर दिया कि वो रियासत के वसीअ तर मुफ़ाद की ख़ातिर अपने सियासी इख़तिलाफ़ात को फ़रामोश करते हुए मुत्तहदा रियासत के लिए मुत्तहिद होजाएं।

उन्होंने उम्मीद ज़ाहिर की के आइन्दा आम चुनाव मुत्तहदा आंध्र प्रदेश में मुनाक़िद होंगे। अशोक बाबू ने इशारा किया कि एक मुअल्लक़ असेंबली रियासत की तक़सीम की ज़िम्मेदारी नहीं ले सकती। और ख़बरदार किया कि तक़सीम के मसले पर नरम रवैय्या इख़तियार करने की सूरत में अरकाने असेंबली ख़ुद अपने हलक़ा की अवाम के एतेमाद से महरूम होजाएंगे।

अशोक बाबू ने खास्कर सीमांध्र के अरकाने पार्लियामेंट और अरकाने असेंबली पर ज़ोर दिया कि वो उस वक़्त तक अपनी लड़ाई जारी रखें जब तक मर्कज़ी हुकूमत रियासत की तक़सीम से मुताल्लिक़ अपने फ़ैसले से दस्तबरदार होजाए।

TOPPOPULARRECENT