Friday , October 20 2017
Home / Islami Duniya / मुर्सी के हामियों और मुख़ालिफ़ीन में झड़पें 11 हलाक

मुर्सी के हामियों और मुख़ालिफ़ीन में झड़पें 11 हलाक

मिस्र में माज़ूल सदर मुहम्मद मुर्सी के हामियों और मुख़ालिफ़ीन के बीच झड़पों का सिलसिला मंगल को भी जारी रहा, जिसमें 11 अफ़राद हलाक और 80 से ज़ाइद ज़ख्मी होगए। मुल्क की नई उबूरी हुकूमत पर इस्लाम पसंद लीडर की रिहाई के लिए दबाव बढ़ता जा रहा है।

मिस्र में माज़ूल सदर मुहम्मद मुर्सी के हामियों और मुख़ालिफ़ीन के बीच झड़पों का सिलसिला मंगल को भी जारी रहा, जिसमें 11 अफ़राद हलाक और 80 से ज़ाइद ज़ख्मी होगए। मुल्क की नई उबूरी हुकूमत पर इस्लाम पसंद लीडर की रिहाई के लिए दबाव बढ़ता जा रहा है।

मुर्सी के हामी अमरीकी सिफ़ारत ख़ाने की जानिब बढ़ रहे थे कि मुख़ालिफ़ मुर्सी एहितजाजियों ने उनपर हमला कर दिया। दोनों ग्रुपस ने एक दूसरे पर संगबारी की और फायरिंग का भी तबादला हुआ। इस तशद्दुद में एक शख़्स हलाक और 23 ज़ख्मी होगए थे। क़ाहिरा यूनीवर्सिटी के क़रीब इसी तरह की झड़पों में 3 अफ़राद और किलोबया में 3 अफ़राद हलाक होगए। 86 ज़ख्मियों में 12 को मामूली ज़ख्म आए जबकि 74 का हॉस्पिटल्स में ईलाज जारी है।

मुर्सी को फ़ौज की तरफ़ से 3 जुलाई को माज़ूल किए जाने के बाद हज़ारों एहितजाजी सड़कों पर निकल आए थे और तशद्दुद का सिलसिला उसी दिन से जारी है। उनके हामी मुर्सी की बहाली का मुतालिबा कररहे हैं और इख़वानुल मुस्लिमीन ने फ़ौज की पुश्तपनाही के हामिल सियासी अमल में हिस्सा लेने से इनकार कर दिया है। ऐनी शाहिदीन ने बताया कि झड़पों में फायरिंग का भी तबादला हुआ जिसके बाद पुलिस ने मुदाख़िलत करते हुए हुजूम को मुंतशिर करने के लिए आँसू ग़ैस का इस्तिमाल किया।

TOPPOPULARRECENT