Saturday , October 21 2017
Home / India / मुलायम सिंह को अचानक मुसलमानों से हमदर्दी क्यों : राहुल

मुलायम सिंह को अचानक मुसलमानों से हमदर्दी क्यों : राहुल

उन्नाव, २९ जनवरी (यू- इन आई) कांग्रेस के जनरल सैक्रेटरी राहुल गांधी ने यहां इंतेख़ाबी जलसा से ख़िताब के दौरान समाज वादी पार्टी पर हमला करते हुए कहा कि आख़िर समाज वादी पार्टी के सदर मुलायम सिंह को मुसलमानों पर अचानक इस क़दर प्यार क्यो

उन्नाव, २९ जनवरी (यू- इन आई) कांग्रेस के जनरल सैक्रेटरी राहुल गांधी ने यहां इंतेख़ाबी जलसा से ख़िताब के दौरान समाज वादी पार्टी पर हमला करते हुए कहा कि आख़िर समाज वादी पार्टी के सदर मुलायम सिंह को मुसलमानों पर अचानक इस क़दर प्यार क्यों आया है जबकि उन्हों ने तीन बार उतर प्रदेश के वज़ीर ए आलाٰ की हैसीयत से इन की हालत बेहतर करने के लिए कुछ भी नहीं किया।

मिस्टर गांधी ने सवाल किया कि जब वो बरसर इक़तिदार थे तो उन्हें मुसलमानों की तालीमी हालत और इन की ज़िंदगी का मिआर बेहतर बनाने से किसी ने रोका था। मिस्टर गांधी ने यहां 19 फरवरी को होने वाले इंतेख़ाबात में समाज वादी पार्टी के ऐसे खोखले प्यार से ख़बरदार करते हुए कहा कि कांग्रेस ने पहले ही मुसलमानों को साढे़ चार फ़ीसद रिज़र्वेशन देने की तजवीज़ पेश की है और वो मुसलमानों की फ़लाह ओ- बहबूद के लिए मज़ीद इक़दामात करेगी।

मिस्टर गांधी ने जो अमेठी से रुकन पार्लीमैंट हैं कहा कि मकिन है समाज वादी पार्टी के सदर ने मुसलमानों को 18 फ़ीसद रिज़र्वेशन देने का वायदा किया हो लेकिन कांग्रेस ऐसे वादों पर यक़ीन नहीं करती जो पूरा ना किया जा सके।

कांग्रेस के इस नौजवान लीडर ने कहा कि कांग्रेस वाहिद पार्टी है जिसने किसानों, ग़रीबों और पसमाँदाह तबक़ात पर एतमाद किया है जबकि दीगर पार्टीयां सिर्फ उन्हें अपना वोट बैंक समझती रही हैं।मिस्टर राहुल गांधी ने पूरे एतेमाद से कहा कि वो उतर प्रदेश में अवामी हुकूमत फ़राहम करने के लिए एद बंद हैं क्योंकि गुज़शता 22 बरसों की हुकूमत में अवाम की हिस्सा दारी सिर्फ दस फ़ीसद थी जब कि 90 फ़ीसद अवाम को नजर अंदाज़ किया गया था।

मिस्टर राहुल गांधी ने वायदा किया कि कांग्रेस उतर प्रदेश में आम आदमी की हुकूमत कायम होने तक यहां के अवाम के साथ मिल कर इस के लिए कोशां रहेगी। मिस्टर राहुल गांधी ने अपनी तमाम तक़ारीर की तरह आज भी ये बात दोहराई कि गुज़शता 22 बरसों में दीगर हुकूमतों ने यहां के अवाम के लिए कुछ भी नहीं किया है।

उन्हों ने सवाल किया कि आख़िर गुज़शता पाँच साल में आप ने कितनी बार मायावती को गांव में देखा है और ये कि यही बात समाज वादी पार्टी पर भी सादिक़ आती है।

TOPPOPULARRECENT