Saturday , October 21 2017
Home / India / मुल्क् 40 सालों से लोक पाल बिल का मुंतज़िर

मुल्क् 40 सालों से लोक पाल बिल का मुंतज़िर

नई दिल्ली,२४ दिसम्बर: (एजैंसीज़) पार्लीमैंट की कार्रवाई में 27 दिसम्बर से तीन रोज़ का इज़ाफ़ा किया गया है ताकि लोक पाल बल और लोक आयवकत बिल 2011 को पेश करने के बाद उन की मंज़ूरी अमल में आसके लेकिन ये तवक़्क़ो की जा रही है कि तौसीअ शूदा अय्याम मे

नई दिल्ली,२४ दिसम्बर: (एजैंसीज़) पार्लीमैंट की कार्रवाई में 27 दिसम्बर से तीन रोज़ का इज़ाफ़ा किया गया है ताकि लोक पाल बल और लोक आयवकत बिल 2011 को पेश करने के बाद उन की मंज़ूरी अमल में आसके लेकिन ये तवक़्क़ो की जा रही है कि तौसीअ शूदा अय्याम में भी कार्रवाई में मुश्किलात पेश आ सकती हैं।

लोक पाल बिल्लियों तो जुमेरात को पेश किया गया था जिस पर मुख़्तलिफ़ सयासी जमातों का मुख़्तलिफ़ मौक़िफ़ सामने आया। बिल मुतआरिफ़ किए जाने के फ़ौरी बाद इस में मौजूद ख़ामीयों को सयासी जमातों और टीम अन्ना ने भी महसूस करलिया और अरकान ने सब से ज़्यादा तवज्जा इस नुक्ते पर दी जहां वज़ीर-ए-आज़म और एम पि ( MPs) को इस बल के दायरा कार में लाया गया था इलावा अज़ीं लोक पाल पैनल में अक़ल्लीयतों के लिए तहफ़्फुज़ात और रियास्तों में लोक आयुक्त् का क़ियाम पर भी तवज्जा मर्कूज़ की गई।

क़ाइद अपोज़ीशन मसगा स्वराज की क़ियादत में यासी जमातों के ज़रीया इस बल पर मुबाहिस वक़्त की अहम ज़रूरत था क्यों कि मुख़्तलिफ़ पार्टीयों ने मुख़्तलिफ़ एतराज़ पेश किए थे। नतीजा ये हुआ कि हुकूमत की कोशिशों के बावजूद अपोज़ीशन और टीम अना दोनों ने बल को नामंज़ूर कर दिया।

इस मौक़ा पर हुकूमत की नुमाइंदगी करते हुए परनब मुकर्जी ने कहा कि बल के मुताल्लिक़ MPs को अगर एतराज़ात हो तो उसे आपसी तबादला-ए-ख़्याल के ज़रीया दूर किया जा सकता है। उन्हों ने इन इल्ज़ामात की तरदीद की कि बल को इंतिहाई उजलत में पेश किया गया है।

उन्हों ने मज़ीद वज़ाहत करते हुए कहा कि ये बात बग़ौर सुन लें कि बिल पेश करने में उजलत से काम नहीं लिया गया है। लोक पाल बल के लिए मलिक एक या दो साल से नहीं बल्कि 40 सालों से मुंतज़िर है और इस दौरान कई हुकूमतें आयी और कई चली गईं।

TOPPOPULARRECENT