Sunday , October 22 2017
Home / Hyderabad News / मुसलमानों का इमेज ख़राब करने की साज़िशें

मुसलमानों का इमेज ख़राब करने की साज़िशें

हिंदुस्तान में मुसलमानों की साख को मुतास्सिर करने की कोशिशें इबतिदा ही से जारी हैं और इस के लिए नित नए हरबे इख़तियार किए जाते रहे हैं। हालिया दिनों में सोश्यल नेटवर्किंग का मुसलमानों को बदनाम करने की साज़िशों में काफ़ी अमल दख़ल रहा

हिंदुस्तान में मुसलमानों की साख को मुतास्सिर करने की कोशिशें इबतिदा ही से जारी हैं और इस के लिए नित नए हरबे इख़तियार किए जाते रहे हैं। हालिया दिनों में सोश्यल नेटवर्किंग का मुसलमानों को बदनाम करने की साज़िशों में काफ़ी अमल दख़ल रहा। एसे कई वाक़ियात मंज़रे आम पर आए जहां फ़र्ज़ी मुस्लिम नामों के दरीअह दहश्त फैलाई गई और तहक़ीक़ात के बाद हक़ायक़ का इन्किशाफ़ हुआ लेकिन मीडीया में इन ख़बरों को नुमायां एहमीयत नहीं दी गई।

ये इन्किशाफ़ात सब के लिए हैरतअंगेज़ होंगे कि हालिया दिनों मंज़रे आम पर आए चंद वाक़ियात में मुसलमानों को किस तरह बदनाम किया गया। एक जन सिंघी ने मुबय्यना तौर पर पाकिस्तानी पर्चम लहरा कर दहश्त और फ़िर्कावाराना मुनाफ़िरत फैलाने की कोशिश की । पिछ्ले माह एक पैग़ाम के ज़रीये कोलकता में बम धमाका करने की धमकी दी गई और ये दहश्तगर्द पैग़ाम एक हिंदु उमय्या सरकार ने जमात उल-मुजाहिदीन बंगलादेश के नाम रवाना किया था।

2 दिसंबर 2014 के दिन उसे बेनकाब किया गया। जबकि क़ौमी चैनल एन डी टी वी ने 22 दिसंबर की अपनी रिपोर्ट में एक एसे हिंदु का पर्दा फ़ाश करते हुए उसे मंज़रे आम पर लाया था जो मुज़फ़्फ़रनगर जैसे हस्सास शहर में तीन मंदिरों पर गाय का गोश्त डालने का मंसूबा रखता था।

इंडियन मुजाहिदीन के नाम राजिस्थान के 16 वुज़रा को हलाक करने की धमकी देने वाला भी इंडियन मुजाहिदीन का शख़्स हिंदु निकला जिस को राजिस्थान की ए टी एस ने बेनकाब किया। जिस का नाम सुशील चौधरी है। दिसंबर 2014 में टाइम्स आफ़ इंडिया जैसे अख़बार में उस की तफ़सील आई है। सुशील चौधरी मुस्लमान शनाख़्त के ज़रीये इंडियन मुजाहिदीन का रोल अदा कररहा था।

इस तरह के वाक़िया में बैंगलौर पुलिस ने गुज़शता हफ़्ता एक हिंदू लड़के को गिरफ़्तार करलिया जो शहर में दहश्तगर्द हमलों की धमकीयां दे कर दहश्त फैला रहा था। इस ने अब्बू ख़ां के नाम से फ़र्ज़ी शनाख़्त तैयार की थी। 29 दिसंबर के हिंदुस्तान टाइम्स में इस सिलसिले में रिपोर्ट आई है। दानिश्वरों ने सोश्यल नेट वर्किंग साईटस का इस्तेमाल करने वाले मुसलमानों को मश्वरह दिया हैके वो एसी साज़िशों से महफ़ूज़ रहें चूँकि उन्हें राग़िब करने उन्हें फंसाने और बदनाम करने की मुनज़्ज़म कोशिश जारी है।

इन हालात में ज़रूरी हैके मुस्लिम नौजवान तलबा जो सोश्यल नेटवर्किंग साईटस से जुड़े हुए हैं ज़्यादा चौकन्ना और बाख़बर रहें । ऐसी तख़रीबी सरगर्मीयों और साज़िशों का शिकार ना हूँ और हक़ायक़ को मंज़रे आम पर लाएंगे।

TOPPOPULARRECENT