Tuesday , August 22 2017
Home / India / मुसलमानों की भावनाओं से खिलवाड न करे हरियाणा सरकार: मौलाना याहया

मुसलमानों की भावनाओं से खिलवाड न करे हरियाणा सरकार: मौलाना याहया

हिंदुओं की भावनाओं की कद्र करते हुए गाय कि कुर्बानी न करें सच्चा मुसलमान वही होता है जिसके हाथ से किसी इंसान को तकलीफ ना पहुंचे। सरकार गौ हत्या, गोमांस बैचने वाले, गाय बैचने वालों के खिलाफ कानून कारवाई करने बिरयानी जांच के आदेश को वापिस ले नहीं तो देश भर में होगा विरोध प्रदर्शन

पुन्हाना(हरियाणा) : देश में मुसलमानों की सबसे बड़ी संस्था जमीयत-ए-उलेमा हिंद के पदाधिकारियों ने बीफ मामले को लेकर शनिवार को पुन्हाना में एक प्रेस वार्ता आयोजिक की गई। इस मौके पर हरियाणा, पंजाब, हिमाचल प्रदेश और चंडीगढ़ राज्यों के अध्यक्ष मौलाना याहया तिरवाडा सहित जमियत के आधा दर्जन पदाधिकारी मौजूद रहे। इस मौके पर मौलाना याहया तिरवाडा ने कहा बिरयानी में बीफ ढूडकर मेवात के लोगों की भावाओं से हरियाणा सरकार खिलवाड कर रही है। उन्होने चेतावनी देते हुऐ कहा कि जल्द ही हरियाणा सरकार ने बिरियानी जांच आदेश को वापिस नहीं लिया तो जमियत की हिंदुस्तान में कार्यत सभी 5000 यूनिटें हिंदुस्तान स्तर पर हरियाणा सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करने को मजबूर होगी। उन्होने कहा सरकार मुसलमानो की भावनाओ से खिलवाड़ ने करे जबकी मेवात का मुसलमान दुसरे समाज के लोगों की भावनाओं की पहले से ही कद्र करता है। वहीं मौलाना ने बकरीद के मोके पर गाय की क़ुरबानी ने करने का मुसलमानों से आह्वान भी किया। उन्होने कहा सरकार कार्रवाई करे तो गाय बैचने वालों, काटने वालों पर करे, भैंस और बकरे कि बिरयानी बैचने वालों को किसी भी कीमत पर प्रताडित ने किया जाये। मौलाना याहया ने कहा कि देश और मेवात में हिंदुओं की भावनाओं की कद्र करते हुए उन्होंने 2013-14 में गौ हत्या के खिलाफ एक अभियान चलाया था। जिसमें हथीन, सिंगार पुन्हाना आदी इलाकों में पंचायत कर संदेश दिया था वहीं उन्होंने मेवात जिला में करीब एक लाख रुपए की लागत से होर्डिंग लगाए थे। जिनमें गौ हत्या ने करने, बकराईद के मौके पर गाय की कुर्बानी ना करने और गौ मांस खाने के खिलाफ लगाए गए थे। उन्होंने कहा कि सच्चा मुसलमान वही होता है जिसके हाथ से किसी इंसान को तकलीफ ना पहुंचे। उन्होंने कहा इस्लाम के पैगंबर हजरत मुहम्मद साहब ने कहा कि दूसरे मजहब का सम्मान करो। गाय भले ही इस्लाम में हलाल जानवर हो लेकिन हिंदुस्तान में भारी संख्या में एक समाज के लोग गाय को माता मानते हैं उनके जज़्बातों का ऐतराम करते हुए हिंदुस्तान की सबसे बड़ी संस्था जमीयत उलेमा हिंद गौ हत्या, गाय की कुर्बानी न करने के लिये अभीयान चलाया था वहीं देवबंद ने भी गोहत्या कि खिलाफ अपना फत्वा जारी किया था। उन्होंने कहा एक तरफ तो हम हिंदू समाज की भावनाओं की कद्र करते हुए गाय की हत्या और कुर्बानी न करने का आह्वान करते हैं जबकि दूसरी तरफ हरियाणा सरकार मुसलमानों की भावनाओं का खिलवाड़ करते हुए बिरयानी में बीफ ढूंड रही है। सरकार और पुलिस गौ हत्या कर गोमांस बैचने वाले, गाय बैचने वालों के खिलाफ कानून कारवाई करने के बजाय बकरे की बिरयानी बेचने वालों की बिरयानी का सेंपल लेकर मुसलमानों की भावनाओं से खिलवाड़ कर रही है। उन्होंने कहा सरकार ने जो मेवात में बिरयानी के 7 सैंपलों की जांच की बात कही है उस पर विश्वास नहीं किया जा सकता क्योंकि कुछ दिनों पहले दादरी के अखलाक् मामले में वहां की सरकार ने 2 सैंपलों की जांच कराई थी जबकि एक सैंपल में बकरे का गोश्त पाया गया वहीं मथुरा की लैब में गाय का मांस दिखाया गया। उन्होंने कहा सरकार अपने आदेश को वापस ले नहीं तो पूरे हिंदुस्तान में जमियत की करीब 5000 यूनिट्स हिंदुस्तान भर में इसका विरोध प्रदर्शन करेगी। इस मौके पर कारी मोहम्मद मूसा, मोलाना अब्दुल रहमान, मौलाना यूसुफ, मौलाना असद, मौलाना अब्दुल मजीद, मोलाना आरिफ, हाफिज शाहिद और कारी नाजिर हसन सहित आधा दर्जन उलेमा मौजूद थे।

TOPPOPULARRECENT