Thursday , August 17 2017
Home / Khaas Khabar / मुसलमानों को 12 फ़ीसद तहफ़्फुज़ात देने के मुतालिबे में शिद्दत

मुसलमानों को 12 फ़ीसद तहफ़्फुज़ात देने के मुतालिबे में शिद्दत

हैदराबाद 13 सितंबर: रियासत तेलंगाना में 12 फ़ीसद मुस्लिम तहफ़्फुज़ात के लिए जारी सियासत की तहरीक अब मसाजिद से भी गूँजने लगी है। मिली मज़हबी सियासी-ओ-रज़ाकाराना तन्ज़ीमों से वाबस्ता अफ़राद वज़ीफेयाब , ज़ईफ़ , नौजवान नसल ख़वातीन अब इस तहरीक से जुटने लगे हैं।

बिलालहाज़ सियासी पार्टी ख़ुद तेलंगाना राष़्ट्रा समीती से वाबस्ता मुस्लिम क़ाइदीन-ओ-सेकुलर्स ज़हन अफ़राद ने भी 12 फ़ीसद मुस्लिम तहफ़्फुज़ात के हक़ में अपना नारा बुलंद कर रहे हैं। इस दौरान मुसलमानों की ग़ैर सियासी नुमाइंदा तंज़ीम जमईता उलालमा-ए-हिंद तेलंगाना ने सियासत की तहरीक को अपनी भरपूर ताईद का एलान किया।

नमाज़-ए-जुमा के पेश-ए-नज़र रियासत तेलंगाना के बेशतर मसाजिद और ज़िला हैड क्वार्टर्स के अलावा मंडल हैडकुआटरस की बड़ी मसाजिद में 12 फ़ीसद मुस्लिम तहफ़्फुज़ात का तज़किरा हुआ।

निर्मल , कोरटला , कोटगीर , मधोल , निज़ामबाद में याददाश्तें पेश की गई। आदिलाबाद के निर्मल टाउन में मसाजिद कमेटीयों के ज़िम्मे दारान ने तहफ़्फुज़ात की एहमीयत पर मुसलमानों की तवज्जा मबज़ूल करवाई। 12 फ़ीसद मुस्लिम तहफ़्फुज़ात की एहमीयत और इस से हासिल होने वाले नौजवान मुस्लिम नसल के लिए एक नेअमत से कम नहीं ।

क़ौम की तामीर-ओ-तरक़्क़ी के लिए 12 फ़ीसद तहफ़्फुज़ात काफ़ी एहमीयत के हामिल हैं और तहफ़्फुज़ात के हुसूल के लिए रोज़नामा सियासत ने जो मुहिम शुरू की है और जो क़ानूनी पेचीदगीयों पर क़ौम का शऊर बेदार करते हुए तहफ़्फुज़ात के लिए जो इक़दाम किया है तेलंगाना के हर ज़िला से इस तहरीक को तआवुन हासिल हो रहा है।

हुकूमत तेलंगाना के वादे पर अमल आवरी में ताख़ीर और एक लाख से ज़ाइद मुलाज़िमतों पर तक़र्रुत के अमल से तशवीश का शिकार मुस्लमान इस मुहिम को मज़बूत कर रहे हैं । इन मुलाज़िमतों में 12 फ़ीसद तहफ़्फुज़ात के तहत 12 हज़ार से ज़ाइद मुलाज़िमतें मुसलमानों के हक़ में आती हैं।

ताहम अगर मुलाज़िमतों के आलामीया के बाद तहफ़्फुज़ात मिलते हैं तो तक़रीबन 8 हज़ार से ज़ाइद मुलाज़िमतों से मुसलमानों को महरूम होना पड़ेगा। महिकमा पुलिस में क़ौम की नुमाइंदगी पर सियासत एक अरसे से ख़िदमात अंजाम रहा है और इस एहमीयत कि तहत तहरीक को शुरू किया गया चूँकि एक लाख मलाज़ितों के इस मौके के बाद आइन्दा 10 साल तक सरकारी मुलाज़िमतों का कोई सिलसिला शुरू होने किया मकानात नहीं है और हर साल मेडिकल और बी डी एस की नशिस्तों में सैंकड़ों नशिस्तों का नुक़्सान हो रहा है।

मुसलमानों के हक़ में 12 फ़ीसद तहफ़्फुज़ात की एहमीयत और इस के हुसूल के लिए जारी रोज़नामा सियासत की तहरीक का ख़ौरमक़दम करते हुए जमईता उलालमा ने सियासत तहरीक की भरपूर ताईद का एलान किया।

TOPPOPULARRECENT