Friday , August 18 2017
Home / AP/Telangana / मुसलमानों को 12 फ़ीसद रिजर्वेशन ही तरक़्क़ी का वाहिद रास्ता

मुसलमानों को 12 फ़ीसद रिजर्वेशन ही तरक़्क़ी का वाहिद रास्ता

हैदराबाद 28 अप्रैल: तालीम ही से मुसलमानों का मुस्तक़बिल वाबस्ता है, सिवाए रिजर्वेशन के मुसलमानों की तरक़्क़ी का कोई दूसरा रास्ता नहीं है। रोज़नामा सियासत की तरफ से शुरू करदा 12 फ़ीसद मुस्लिम रिजर्वेशन की तहरीक तेलंगाना के चप्पा चप्पा में पहूंच गई है। सदा सेव पेट के नौजवानों और लड़कीयों को फ़न्नी तर्बीयत फ़राहम करने के लिए रोज़नामा सियासत तैयार है। सदासेवपेट में अलामीन एजूकेशनल ट्रस्ट के ज़ेरे एहतेमाम मुस्लमान।

तालीम रोज़गार और रिजर्वेशन के मौज़ू पर मुनाक़िदा तक़रीब में बहैसीयत मेहमान-ए-ख़ोसूसी ख़िताब करते हुए आमिर अली ख़ां न्यूज़ एडिटर रोज़नामा सियासत ने ये बात कही। इस प्रोग्राम में स्टाफ़ रिपोर्टर रोज़नामा सियासत मुहम्मद नईम वजाहत और सेक्रेटरी वर्किंग जर्नलिस्ट्स यूनीयन अबदुलक़ादिर फ़ैसल मेहमान एज़ाज़ी ने शिरकत की।

दुसरे मेहमानों में सदर ज़िला मेदक जमात-ए-इस्लामी-ओ-मुआविन रुकन बलदिया सदसिवपेट अमजद हुसैन, सदर ईद-गाह कमेटी अकबर हुसैन, सदर प्रेस कलब मुहम्मद हाजी, सदर मदीना मस्जिद कमेटी मीर नवाज़ रिटायर्ड टीचर -ओ-सरपरस्त अलामीन एजूकेशनल ट्रस्ट, उसमान कांग्रेस क़ाइद रहमान शरीफ़ के अलावा दूसरे मौजूद थे।

आमिर अली ख़ां ने अलामीन एजूकेशनल ट्रस्ट की तालीमी सरगर्मीयों की सताइश करते हुए कहा कि तालीम से ही तारीकी दूर हो सकती है और मुसलमानों की ज़िंदगीयों में ख़ुशहाली आसकती है। मुसलमानों में तालीमी शऊर बेदार हो रहा है, तालीम हासिल करने के बावजूद नौजवान रोज़गार से महरूम हो रहे हैं, वादे के मुताबिक़ अगर चीफ़ मिनिस्टर तेलंगाना के चन्द्रशेखर राव‌ मुसलमानों को 12 फ़ीसद रिजर्वेशन फ़राहम करते हैं तो तालीम और रोज़गार में मुसलमानों को काफ़ी फ़ायदा होगा।

आमिर अली ख़ां ने कहा कि मैंने अपने वालिद मुहतरम-ओ-एडिटर रोज़नामा सियासत ज़ाहिद अली ख़ां की इजाज़त से मुसलमानों को उनका हक़ दिलाने के लिए 12 फ़ीसद मुस्लिम रिजर्वेशन की तहरीक का आग़ाज़ किया है। तेलंगाना के तमाम अज़ला का दौरा करते हुए मुसलमानों में 12 फ़ीसद मुस्लिम रिजर्वेशन के ताल्लुक़ से शऊर बेदार करने के अलावा हुकूमत पर जमहूरी अंदाज़ में दबाओ डालने में कामयाबी मिली।

उन्होंने कहा कि रिजर्वेशन ही मुसलमानों की तरक़्क़ी के ज़ामिन हैं। मुसलमानों को माज़ी भूल कर रोशन मुस्तक़बिल की हिक्मत-ए-अमली तैयार करने की ज़रूरत है। आमिर अली ख़ां ने कहा कि रोज़नामा सियासत ने अपने आपको सहाफ़त तक महदूद नहीं रखा बल्के कई फ़लाही सरगर्मीयों का आग़ाज़ करते हुए मुसलमानों की हौसला-अफ़ज़ाई कर रहा है और सियासत की तरफ से 39 फ़न्नी तर्बीयती कैम्पस चलाए जा रहे हैं।

TOPPOPULARRECENT