Wednesday , August 23 2017
Home / Featured News / मुसलमानों ने किया 84 वर्षीय कश्मीरी पंडित का अंतिम संस्कार

मुसलमानों ने किया 84 वर्षीय कश्मीरी पंडित का अंतिम संस्कार

image

श्रीनगर : इंसानियत की बेहतरीन मिसाल पेश करते हुए दक्षिण कश्मीर के कुलगाम जिले में गांव के मुसलमानों ने एक कश्मीरी पंडित का अंतिम संस्कार किया, ये कश्मीरी पंडित आतंकवादियों के खतरे की वजह से अपने परिवार के सभी सदस्यों के कश्मीर छोड़ कर चले जाने के बाद भी वहीँ गाँव में रह रहे थे |

कुलगाम में मालवन के रहने वाले जानकी नाथ (84), का हफ़्ते के रोज़ इन्तेक़ाल हो गया था | परिवार वालों की ग़ैर मौजूदगी में गाँव वालों ने ही उनका अंतिम संस्कार किया |

1990 में घाटी से कश्मीरी पंडितों के चले जाने के बाद नाथ मालवन में 5000 मुसलमानों के बीच रहने वाले अकेले कश्मीरी पंडित थे | वह 1990 में गवर्नमेंट सर्विस से उस वक़्त रिटायर्ड हुए थे जब घाटी में उग्रवाद की शुरुआत हुई थी |

वे पिछले पांच सालों से बीमार थे और उनके मुस्लिम पड़ोसी ही उनकी देखभाल कर रहे थे जैसे ही उनकी मौत की ख़बर मिलते ही उनके पड़ोसियों ग़मगीन हो गये |

मालवन के रहने वाले गुल मोहम्मद अली ने कहा कि हम उनकी मौत से दुखी हैं वो मेरे बिल्कुल बड़े भाई की तरह थे हम कोई भी काम करने से पहले उनसे मशवरा लेते थे | एक और मक़ामी गुलाम हसन ने बताया कि भले ही उनका मज़हब अलग था लेकिन पड़ोसी के नाते जो हमारा फ़र्ज़ था हमने वो अदा किया |

उनके पड़ोसियों ने ही उनके लिए लकड़ी का इंतेज़ाम करके उनका अंतिम संस्कार किया |मक़ामी लोगों ने बताया कि जानकी नाथ को घाटी में रहने के अपने फैसले पर कोई पछतावा नहीं था |

TOPPOPULARRECENT