Thursday , October 19 2017
Home / India / मुस्लमानों को तहफ़्फुज़ात , बेनी प्रसाद के ख़िलाफ़ बी जे पी की शिकायत

मुस्लमानों को तहफ़्फुज़ात , बेनी प्रसाद के ख़िलाफ़ बी जे पी की शिकायत

बी जे पी ने आज इलेक्शन कमीशन से शिकायत की कि मर्कज़ी वज़ीर स्टील बेनी प्रसाद वर्मा ने मुस्लमानों को ज़ेली कोटा देने के लिए जो ब्यान दिया है वो ज़ाबता अख़लाक़ की ख़िलाफ़वर्ज़ी है।

बी जे पी ने आज इलेक्शन कमीशन से शिकायत की कि मर्कज़ी वज़ीर स्टील बेनी प्रसाद वर्मा ने मुस्लमानों को ज़ेली कोटा देने के लिए जो ब्यान दिया है वो ज़ाबता अख़लाक़ की ख़िलाफ़वर्ज़ी है।

बी जे पी ने इल्ज़ाम आइद किया कि कांग्रेस क़ाइदीन को दस्तूरी इदारों का कोई पास-ओ-लिहाज़ नहीं है। जगत प्रसाद नादा, राजीव परताब रूडी और शाहनवाज़ हुसैन पर मुश्तमिल बी जे पी के एक वफ़द ने पार्टी के इंतेख़ाबी सेल के कन्वीनर आर राम कृष्णा के हमराह चीफ़ इलेक्शन कमिशनर एस वाई क़ुरैशी और दीगर दो इलेक्शन कमिश्नर्स वि एस स्मिथ और एच एस ब्रह्मा से मुलाक़ात की और उन्हें बेनी प्रसाद वर्मा के ख़िलाफ़ एक याददाश्त पेश की।

बी जे पी जनरल सेक्रेटरी जे पी नाड्डा ने कमीशन के बाहर आने के बाद अख़बारी नुमाइंदों से बातचीत करते हुए कहा कि हमने इलेक्शन कमीशन से मुलाक़ात की है और वर्मा के ख़िलाफ़ अपनी शिकायत दर्ज कराई है। मुस्लमानों को ज़ेली कोटा देने से मुताल्लिक़ उन के रिमार्कस के ख़िलाफ़-ए-ज़ाबिता अख़लाक़ की ख़िलाफ़वर्ज़ी का केस दर्ज किया जाए।

इलेक्शन कमीशन आफ़ इंडिया को चाहीए कि वो सिर्फ़ सरज़निश करने के बजाय सख़्त कार्रवाई करे। इंतेख़ाबी मुहिम से वुज़रा को बाज़ रखने के इलावा उन पर मुक़द्दमा भी चलाया जाना चाहीए। सूरत-ए-हाल अब ऐसी हो गई है कि क़ानूनसाज़ ही क़ानून शिकनी के मुर्तक़िब हो रहे हैं।

नाड्डा ने कहा कि कांग्रेस की ये आदत है कि वो दस्तूरी इदारों को चैलेंज करती है। बी जे पी ने अपनी शिकायत में मज़ीद कहा कि ये एक बदबख्ती की बात है कि मर्कज़ी वुज़रा इलेक्शन कमीशन आफ़ इंडिया के मर्तबा के तवाज़ुन में अपना रोल अदा कर रहे हैं और झूटे वायदे करते हुए राय दहिंदों को गुमराह कर रहे हैं।

ज़ाबता अख़लाक़ की मुतवातिर ख़िलाफ़वर्ज़ी अज़खु़द क़ाबिल मुस्तौजिब सज़ा है। लेकिन जुर्म का मुआमला बार बार दोहराया जा रहा है। मुख़्तलिफ़ मौक़ों पर मुख़्तलिफ़ वुज़रा इस का इर्तिकाब कर रहे हैं। बी जे पी लीडर ने कहा कि पार्टी ने वर्मा के रिमार्कस के ख़िलाफ़ सख़्त एतराज़ात उठाए हैं और कमीशन से कहा है कि वो सख़्त कार्रवाई करे।

एक दस्तूरी अथॉरीटी को एक वज़ीर चैलेंज कर रहा है। हम ने अपनी याददाश्त में यही बताया है कि कांग्रेस ने अपने मंशूर में अक़ल्लीयतों के लिए तक़रीबन 4.5 फ़ीसद तहफ़्फुज़ात देने की बात कही है। अब उसे छोड़कर कांग्रेस क़ाइदीन 9 फ़ीसद तहफ़्फुज़ात की बात कर रहे हैं।

TOPPOPULARRECENT