Monday , September 25 2017
Home / Politics / मुस्लिमों दलितों के उत्पीड़न का लाइसेंस बन गया है गौरक्षा: मायावती

मुस्लिमों दलितों के उत्पीड़न का लाइसेंस बन गया है गौरक्षा: मायावती

लखनऊ: बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने अपने बयान में कहा कि नागपुर में आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के द्वारा दिया गया भाषण, गोरक्षकों द्वारा आपराधिक, असमाजिक व जातिवादी हिंसक कृत्यों की अनेकों दर्दनाक घटनाओं के सामने आने के बावजूद, जनभावना के विरुद्ध जाकर इन आपराधिक तत्वों की तारीफ करना निश्चित रुप से देशहित का काम नहीं हो सकता है.

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

नेशनल दस्तक की ख़बरों के अनुसार, मायावती ने एक बयान जारी कर आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत द्वारा नागपुर में गोरक्षकों की प्रशंसा में दिए गए भाषण पर प्रतिक्रिया देते हुए उन पर निशाना साधा है.

मायावती ने कहा कि इसी प्रकार गोरक्षा के नाम पर उत्तर प्रदेश के दादरी में एक मुस्लिम युवक को पीट-पीटकर मार दिया गया.खासकर बीजेपी शासित राज्यों गुजरात, हरियाणा, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ व झारखंड आदि में हिंसक वारदातेंमें लगातार बढोतरी हो रही हैं. वास्तव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार बनने के बाद देश भर में गोरक्षका के नाम पर खास कर मुसलमानों को और अब दलितों को हर प्रकार की जुल्म ज्यादती व उत्पीड़न का जबर्दस्त शिकार बनाया जा रहा है. इसके बावजूद आरएसएस प्रमुख द्वारा गोरक्षकों को संरक्षण प्रदान करना समाज व देश को जोड़ने का काम नहीं हो सकता है.

असली गोरक्षक व नकली गोरक्षक की पहचान करने की मोहन भागवत के आह्वाहन को गलत, संकीर्ण व कट्टरवादी सोच की उपज बताते हुए मायावती ने कहा कि आरएसएस की गोरक्षका के नाम पर दुसरे समुदाय को उत्पीड़ित करने के बजाय सेवा भाव व अहिंसा पर आधारित गोसेवा पर बल देना चाहिए, क्योंकि गोरक्षा के कार्य में हिंसा निहित है. जिसका दुष्परिणाम है कि गुजरात की अत्यंत दर्दनाक ऊना दलित उत्पीड़न कांड मीडिया के माध्यम से सामने आ जाने पर पूरा देश आक्रोशित हुआ.

बीएसपी सुप्रीमो ने कहा, इस प्रकार आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत , समाज को तोड़ने के विरुद्ध बात करते हैं लेकिन जमीनी हकीकत यह है कि वह समाज को तोड़ने वालों का समर्थन कर रहे हैं, यह कैसा आचरण है?

उन्होंने आगे कहा, इसके अलावा केंद्र में भाजपा शासन व भाजपा शासित विभिन्न राज्यों में व्यापक भ्रष्टाचार के कारण विकास मद में आने वाला सरकारी धन के गबन की बात को आरएसएस प्रमुख द्वारा आज स्वीकार कर लेने से बीएसपी का आरोप व इस बारे में यह आमधारणा को बल मिलता है कि भाजपा के शासन में विकास का धन कहां चला जाता है किसी को पता नहीं.

TOPPOPULARRECENT