Tuesday , September 26 2017
Home / AP/Telangana / मुस्लिम आरक्षण … केसीआर कितने संजीदा?

मुस्लिम आरक्षण … केसीआर कितने संजीदा?

हैदराबाद 25 अक्टूबर: मुस्लिम आरक्षण के मुद्दे पर मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव की गंभीरता पर सवालिया निशान लग गया है। मुसलमानों को आरक्षण के लिए बीसी आयोग के गठन का इंतेजार था लेकिन मुख्यमंत्री ने आयोग में आरएसएस से संबंध रखने वाले व्यक्ति को अध्यक्ष और मुस्लिम आरक्षण के एक लम्बे समय से मुख़ालिफ़ को सदस्य नियुक्त करते हुए आरक्षण के कारण नुकसान पहुंचाने की कोशिश की।

गौरतलब है कि सरकार ने दो दिन पहले सुशील साइंटिस्ट और तेलुगु अदीब बसपा रामलो को बीसी आयोग का अध्यक्ष नियुक्त किया जबकि सदस्यों के रूप में वी कृष्णा मोहन राव, जय गौरी शंकर डॉक्टर ई अनजनए गौड़ को नामित किया। आयोग का कार्यकाल तीन वर्ष निर्धारित की गई। आमतौर पर बीसी आयोग के अध्यक्ष पद पर किसी सेवानिवृत्त न्यायाधीश की नियुक्ति की है क्योंकि आयोग की जिम्मेदारी कानूनी बिंदुओं से जुड़ते हैं। पसमांदा तबक़ात की फ़हरिस्त में नए तबक़ात की शमूलीयत और ग़ैर मौजूद तबक़ात को हज़्फ करने की ज़िम्मेदारी बीसी कमीशन की है। इस मामले में कानूनी विशेषज्ञों की जरूरत पड़ती है तो राज्य आंध्र प्रदेश में जब कभी आयोग का गठन किया गया तो सेवानिवृत्त न्यायाधीश अध्यक्ष नियुक्त किए गए। राज्य आंध्र प्रदेश में सेवानिवृत्त हाईकोर्ट जज डी सुब्रमण्यम, बीसी आयोग के अध्यक्ष थे।

आंध्र प्रदेश सरकार ने 18 जनवरी 2016 को बीसी आयोग का गठन किया और सेवानिवृत्त हाईकोर्ट जज जस्टिस एल मनजूनाथ को अध्यक्ष नियुक्त किया जबकि अन्य सदस्यों में एक सोशल साइंटिस्ट, बीसी वर्ग के मामलों के दो विशेषज्ञों और एक सरकारी अधिकारी शामिल हैं।

आश्चर्य तो इस बात पर है कि मुस्लिम आरक्षण पर अमल आवरी बार-बार आश्वासन देने वाले मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव की प्रक्रिया उनके वादे के बरख़िलाफ़ है। विशेषज्ञों का कहना है कि मुख्यमंत्री मुस्लिम आरक्षण के मसले पर दरअसल मुसलमानों के भावनाओं से खेल रहे हैं और उन्हें राजनीतिक लाभ के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है।

चुनाव से पहले 4 महीनों में तमिलनाडु की तर्ज पर मुसलमानों को 12 प्रतिशत आरक्षण देने का वादा करने वाले मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव को सुधीर आयोग की रिपोर्ट प्राप्त करने के लिए ढाई साल लग गए। अब अगर मुस्लिम आरक्षण का मुद्दा बीसी आयोग का उल्लेख किया जाए तो हो सकता है कि आयोग की रिपोर्ट पेश करने के लिए ढाई साल लेगा। इस तरह सरकार की पहली अवधि पूरी हो जाएगी। 2019 में चुनाव के दौरान टीआरएस मुस्लिम आरक्षण के मुद्दे पर बीबीसी आयोग की रिपोर्ट के आधार पर मुसलमानों के वोट हासिल करने की कोशिश करेगी।

TOPPOPULARRECENT