Monday , October 23 2017
Home / Crime / मुस्लिम कश फ़सादाद पर बी जे पी पहले अपने गिरेबान में झांके: उमर‌ अबदुल्लाह

मुस्लिम कश फ़सादाद पर बी जे पी पहले अपने गिरेबान में झांके: उमर‌ अबदुल्लाह

वज़ीर आला जम्मू-ओ-कश्मीर उमर‌ अबदुल्लाह ने आज बी जे पी पर सख़्त तन्क़ीद करते हुए अपने गरीबां में झांकने का मश्वरा दिया।

वज़ीर आला जम्मू-ओ-कश्मीर उमर‌ अबदुल्लाह ने आज बी जे पी पर सख़्त तन्क़ीद करते हुए अपने गरीबां में झांकने का मश्वरा दिया।

याद है कि कशटवार में पेश आए तशद्दुद के वाक़ियात पर बी जे पी ने उमर‌ अबदुल्लाह हुकूमत पर तन्क़ीद करते हुए कहा था कि तशद्दुद को रोकने में हुकूमत नाकाम होगई जिस पर उमर‌ अबदुल्लाह ने अपना रद्द-ए-अमल ज़ाहिर करते हुए कहा कि बी जे पी को पहले 2002 में गुजरात में हुए मुस्लिम कश फ़सादाद का जायज़ा लेना चाहिए।

कशटवार में हुए तशद्दुद में एक हिंदू और दो मुस्लमान हलाक हुए जबकि हम ने उस की अदालती तहकीकात का भी हुक्म दिया है और हमारे एक वज़ीर ने इस्तीफ़ा भी दिया है। क्या यही इक़दामात बी जे पी करसकती थी। क्या अरूण जेटली ये ज़हमत गवारा करेंगे कि गुजरात फ़सादाद के बताने के बाद गुजरात का कौन सा वज़ीर इस्तिफा दिया था।

बी जे पी क़ाइदीन को उन्होंने दोग़ले क़रार देते हुए कहा कि जिस वक़्त गुजरात जल रहा था उस वक़्त हालात को कंट्रोल करने केलिए फ़ौज तलब करने में नरेंद्र मोदी ने बहुत ज़्यादा ताख़ीर की थी और सभी जानते हैं कि ये ताख़ीर क्यों की गई थी ताकि मुस्लमानों की ईंट से ईंट बजा दी जाये। फ़सादाद पर कंट्रोल तो दूर की बात है ,नरेंद्र मोदी ने आज तक फ़सादाद पर माज़रत ख़्वाही भी नहीं की है जिस से उनके ढीट होने का पता चलता है।

अपने ट्वीटर पर तहरीर करते हुए उमर‌ अबदुल्लाह ने कहा कि नरेंद्र मोदी एक स्टार वज़ीर आला हैं और वज़ीर-ए-आज़म के ओहदा केलिए एक स्टार उम्मीदवार भी हैं। उन्होंने गुजरात में फ़ौज तलब करने के लिए क्यों ताख़ीर की। याद रहे कि बी जे पी क़ाइद अरूण जेटली को कशटवार के मुतास्सिर इलाकों का दौरा करने की इजाज़त नहीं दी गई थी और उन्हें जम्मू ए रिपोर्ट पर ही रोक लिया गया था जिस पर बी जे पी ने शोर-ओ-गुल करते हुए इस हरकत को गैर जमहूरी हरकत से ताबीर किया था।

TOPPOPULARRECENT