Tuesday , August 22 2017
Home / Featured News / मुस्लिम पर्सनल लॉ के संबंध में गलत धारणा हटाया जाए कुछ लोग‌ क्षेत्रों में फूट डालने की कोशिश कर रहे हैं

मुस्लिम पर्सनल लॉ के संबंध में गलत धारणा हटाया जाए कुछ लोग‌ क्षेत्रों में फूट डालने की कोशिश कर रहे हैं

औरंगाबाद: ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सचिव खालिद सैफ अल रहमान ने कहा कि मुस्लिम पर्सनल लॉ के संबंध में गलत धारणा को हटा दिया जाए देश में मुसलमानों के साथ गैर मुस्लिम भी पर्सनल लॉ के बारे में जो गलत प्रभाव पैदा किया जा रहा है इसे ध्यान से नकाल देने की जरूरत है।

कुछ गलत धारणा फैलाकर क्षेत्रों में फूट डालने की कोशिश कर रहे हैं। यहां एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए खालिद सैफ अल रहमान ने कहा कि मुसलमानों के लिए मौजूदा कानून संतोषजनक है उसमें बदलाव नहीं लाया जाए। खालिद रहमानी और उनके यूपी समकक्ष ज़फर जिलानी भी औरंगाबाद में मौजूद हैं जहां वह मुस्लिम पर्सनल लॉ पर दो दिवसीय सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे।

ज़फर जिलानी ने कहा कि व्यवस्था में हरचीज़ शामिल है। शादी से लेकर तलाक, समर्पित और अन्य महत्वपूर्ण विषयों को कवर किया गया है। कुछ लोग अफवाहें फैला रहे हैं। पर्सनल लॉ से संबंधित गलत बयानी से काम लेकर राष्ट्र को फूट का शिकार बना रहे हैं। उन्होंने कहा कि यह भी मानना ​​गलत है कि एक मुस्लिम चार पत्नियां रख सकता है। किसी कारण के बिना इसे चार शादियां करने की अनुमति है।

वैवाहिक जीवन में एक दूसरे के साथ प्यार ईमानदारी जब तक रहेगा यह शादी अटूट होगी। जब नफरत पैदा होती है और निरंतर प्रयासों के बावजूद दोनों पति-पत्नी में सुलह की कोई संभावना शेष न रह जाए तो उसके लिए एकमात्र तरीका तलाक ही होता है। रहमान ने मुस्लिम समुदाय के विभिन्न कोनों से अपील की कि वे अपने अंदर मुस्लिम‌ पर्सनल लॉ गलत धारणा को दूर करके एकजुट हो जाएं याद‌ रहे कि देश भर में पिछले कुछ महीनों से तलाक के खिलाफ अभियान चलाया जा रहा है। इस संबंध में विभिन्न संगठनों और महिला समूहों ने अदालत से उल्लेख होकर तलाक को खत्म करने पर जोर दिया है। देश में समान नागरिक कोड के कार्यान्वयन के लिए मोदी सरकार भी प्रयास कर रही है।

TOPPOPULARRECENT