Saturday , August 19 2017
Home / India / मुस्लिम भी करते हैं ईसा मसीह को प्यार, इस्लाम में इस रूप में हैं इसा मसीह का उल्लेख

मुस्लिम भी करते हैं ईसा मसीह को प्यार, इस्लाम में इस रूप में हैं इसा मसीह का उल्लेख

क्रिसमस हम सभी जानते है, जीसस के जन्म का स्मरण करता है और पुरे विश्व में ईसाईयों का प्रमुख धार्मिक उत्सव है। लेकिन जीसस इस्लाम में भी महत्वपूर्ण स्थान रखते हैं। हालाँकि ज़्यादातर मुस्लिम क्रिसमस नहीं मानते लेकिन कुछ मुस्लिम खासकर अमेरिका के मुस्लिम क्रिसमस मनाने में यकीन रखते हैं।

जीसस, मैरी और देवदूत जिब्राईल सभी क़ुरान में भी मिलते हैं जैसे बाइबिल के कुछ और चरित्र आदम, नूह, अब्राहम, मोसेस इत्यादि का क़ुरान में भी उल्लेख पाया जाता है मुस्लिमो का मानना है कि जीसस जिनको अरबी में ईसा कहा जाता है वो खुदा के पैगम्बर थे, जो की कुंवारी मरियम (मैरी) से पैदा हैं। मुस्लिम मानते हैं कि ईसा (जीसस) क़यामत से पहले न्याय करने और अल-मसीह-दज्जाल (झूठे मसीहा) को हराने ज़मीन पर वापस आएंगे। यह सब ईसाइयों के जैसा ही लगता है।

मैरी को अरबी में मरियम कहा जाता है इन पर क़ुरान के अंदर पूरा एक चैप्टर दिया हुआ है। एक ही चैप्टर जो पूरे क़ुरान में किसी स्त्री पर आधारित है तो वो मरियम पर आधारित है। असल में मैरी ही ऐसी एक स्त्री है जिनका उल्लेख उनके नाम द्वारा किया गया है। पुरे क़ुरान में किसी भी स्त्री का किसी रिश्ते द्वारा उल्लेख किया गया है जैसे आदम की पत्नी, मूसा की माँ इत्यादि, लेकिन मरियम का उल्लेख उन्ही के नाम द्वारा किया गया है।

मुस्लिम मानते है कि जीसस चमत्कार किया करते थे। क़ुरान में उनके कुछ चमत्कारों की चर्चा की गयी है जैसे अंधे को रोशनी प्रदान करना, कोढ़ी का उपचार करना, मुर्दे को उठा देना और मरी हुई चिड़िया को जीवन प्रदान करना इत्यादि।जीसस के जन्म की कहानी जैसा की क़ुरान में उल्लेख किया गया है कि यह कहानी उनके पहले चमत्कार की भी है जब बचपन में पहली बार पालने में वो बोले और खुद को अल्लाह के पैगम्बर के रूप में घोषित कर दिया।

मरियम को उनके घर वालो द्वारा छोड़ दिया गया तब वो एक पूर्वी जगह में जा कर छिप गयी। जहां पर खुदा द्वारा फरिश्ते जिब्राईल को भेजा गया और जिब्राईल ने उनको उन्ही के द्वारा जीसस के पैदा होने का संदेश दिया मरियम घबरा गयी थी की कुंवारेपन में यह कैसे हो सकता है।

जब जीसस का जन्म हुआ हो गया तब लोगो ने सवाल उठाने शुरू किये तो मरियम ने कहा कि ना माँ गुनाहगार है और ना ही बाप जो पूछना है जीसस से पूछ ले। लोग आश्चर्य में पड़ गए की अभी पैदा हुआ बच्चा जो पालने में खेल रहा है कैसे बताएगा। तब जीसस ने जवाब दिया की मुझे खुदा ने अपना पैगम्बर बना कर भेजा है और एक किताब भी दी है। मैं जहाँ भी रहू खुदा ने मुझे कर्तव्यनिष्ठ बनाया है और अपनी माँ की तरफ कर्तव्य निभाने वाला बनाया है। खुदा ने मुझे निरंकुश और दयनीय नहीं बनाया है। यह जीसस मेरी के पुत्र की एक सत्य कथा है जिसपर ईसाई सन्देह करते हैं।

TOPPOPULARRECENT