Monday , August 21 2017
Home / Delhi / Mumbai / मुस्लिम लड़की को दिल्ली मेट्रो ट्रेन में प्रवेश से रोका गया

मुस्लिम लड़की को दिल्ली मेट्रो ट्रेन में प्रवेश से रोका गया

नई दिल्ली: एक मुस्लिम लड़की को दिल्ली मेट्रो ट्रेन में प्रवेश करने से रोक दिया गया हो हिजाब पहने थी। सयान्ती कारणों से यह कदम हाल ही में किया गया। स्पष्ट रूप से अपने धार्मिक विश्वासों शहर के अन्य सदस्यों के लिए खतरनाक थे। 6 मई को दिल्ली की एक छात्रा हुमैरा खान जो पाबंदी से हिजाब पहनती हैं, मयूर विहार चरण I मेट्रो स्टेशन पर सुरक्षा निरीक्षण के लिए रोक दी गई थी और इसके बाद जो कुछ हुआ उससे देश में धार्मिक सहिष्णुता का असली चेहरा सामने आ जाता है।

हुमैरा खान ने कहा कि उसे सयान्ती निरीक्षण के लिए हिजाब अलग करने की हिदायत दी गई थी जिसकी उसने पालन किया। इसके बाद वह फिर हिजाब पहन लिया। जबकि सयान्ती महिला सदस्य स्टाफ ने उससे कहा, ” इस के साथ बोर्ड नहीं कर सकते मैडम ”। हुमैरा खान ने कहा ” मैं इस (महिला) से कहा कि वह किसी सीनीयर व्यक्ति को बुला लाए जिससे मैं बात कर सकूं। एक व्यक्ति जो अधिक सशक्त नजर आता था, आया, मैंने कहा ” सर आप मेरे छात्र पहचान पत्र का निरीक्षण कर सकते हैं, मेरा पता है और मैं मेट्रो में पिछले दो साल से यात्रा कर रही हूँ। मुझे किसी स्टेशन पर नहीं रोका गया। मुझे कारण बताइए और आपको अधिक परेशान नहीं करूंगी।

उस व्यक्ति ने मुझसे कहा कि या तो मैं वापस चली जाऊं या हिजाब उतार दूं। उसने कोई वजह नहीं बताई। मेरे सामने वापस जाने के सिवाय कोई दूसरा रास्ता नहीं था इसलिए मैं वापस चली गई। अगर ऐसा कोई नियम नहीं है तो मैं इसकी निंदा करती हूं। मैने डीएमआरसी में शिकायत दर्ज करवाई है। उनके जवाब का इंतेज़ार कर रही हूँ। उन्हें हस्तक्षेप करना चाहिए। तब तक मैं आप सभी से अनुरोध करती हूं कि शांति बनाए रखें। ‘ हुमैरा ने दिल्ली मेट्रो को की गई शिकायत में जो कुछ था बताया।

यह बात मामूली नहीं समझा जाना चाहिए। उम्मीद है कि डीएमआरसी इससे माफी करेगा और इस बात को सुनिश्चित करेगा कि धार्मिक विश्वासों की वजह से किसी और के साथ ऐसी घटना दोबारा न होने पाए। हुमैरा खान ने कहा कि हिजाब मुस्लिम लड़की के लिए एक धार्मिक विश्वास है। अगर ऐसा कोई नियम नहीं है तो उन्हें मुस्लिम महिलाओं को भी ऐसे नियम निर्धारण के समय मद्देनजर रखना चाहिए था।

अगर वह मेरी जैसी लड़कियों के लिए नियम निर्धारित शुरू कर दें तो ऐसी सेवाओं हमारी पहुंच में नहीं रहेंगी। मेट्रो एक सरकारी परिवहन जो हर नागरिक के लिए है। अगर कोई सयान्ती समस्या हो तो उन्हें चाहिए कि सयान्ती उपायों में वृद्धि कर दी। ऐसे नियम न करें। इसके अलावा उन्होंने पहले मुझे हिजाब उतार देने के लिए कहा। मेरी पूरी तलाशी ली गई, तो भी उन्होंने मुझे ट्रेन में प्रवेश करने से रोक दिया। यह कतई अस्वीकार्य है।

TOPPOPULARRECENT