Thursday , October 19 2017
Home / Hyderabad News / मुसlमानों को आबादी के लिहाज़ से बजट ज़रूरी- इनायत अली बाक़री

मुसlमानों को आबादी के लिहाज़ से बजट ज़रूरी- इनायत अली बाक़री

हैदराबाद 22 फरवरी (सियासत न्यूज़) जेनरल सेक्रेट्री स्टेट टी आर एस इनायत अली बाक़री ने कहा कि अगर कांग्रेस हुकूमत अक़लीयतों की हमदर्द है तो आबादी के तनासुब से अक़लीयतों के लिए बजट मुख़तस करे। अक़लीयतों के मसाइल पर सिर्फ हमदर्दी

हैदराबाद 22 फरवरी (सियासत न्यूज़) जेनरल सेक्रेट्री स्टेट टी आर एस इनायत अली बाक़री ने कहा कि अगर कांग्रेस हुकूमत अक़लीयतों की हमदर्द है तो आबादी के तनासुब से अक़लीयतों के लिए बजट मुख़तस करे। अक़लीयतों के मसाइल पर सिर्फ हमदर्दी नहीं, बल्कि अमली इक़दामात की ज़रूरत है।

उन्हों ने कहा कि कांग्रेस हुकूमत ने एस सी और एस टी तबक़ात के लिए सब प्लान का एलान किया है। अक़लीयतों को उन का जायज़ मुक़ाम दिलाने के लिए टी आर एस असेंबली और बैरून असेंबली जद्दो जहद कर रही है। उन्हों ने अक़लीयतों को हथेली पर जन्नत दिखाने के मुआमले में कांग्रेस और तेलुगु देशम को एक जैसा क़रार दिया।

दस साल तक बरसरे इक्तेदार रहने वाली तेलुगु देशम ने अक़लीयती बजट को 36 करोड़ तक महिदूद रखा था। इसी तरह इक्तेदार के 9 साल पूरा करने वाली कांग्रेस हुकूमत ने इस में सिर्फ़ 450 करोड़ रुपये का इज़ाफ़ा किया है, जब कि मनज़ूरा बजट कभी मुकम्मल जारी नहीं किया गया।

दस साल तक इक्तेदार से दूर रहने वाली तेलुगु देशम ने अक़लीयतों के लिए 2500 करोड़ रुपये बजट का एलान किया है, जब कि कांग्रेस क़ाइदीन चीफ़ मिनिस्टर से रुजू होकर ठोस तजावीज़ पेश करने की बजाए बजट में सिर्फ़ मुतास्सिर कुन इज़ाफ़ा का इद्दिआ कर रहे हैं।

उन्हों ने कहा कि फ़ीस बाज़ अदायगी और स्कालर शिप्स को मशरूत बनाकर अक़लीयती तलबा को आला तालीम से महरूम किया जा रहा है। अगर साल 2013-14 के आम बजट में अक़लीयतों के लिए कम अज़ कम एक फ़ीसद इज़ाफ़ा नहीं किया गया तो अक़लीयतें कांग्रेस हुकूमत को माफ़ नहीं करेंगी।

TOPPOPULARRECENT