Sunday , October 22 2017
Home / Khaas Khabar / मुहम्मद ओवैस का सियासी क़त्ल ,शवाहिद मिटाने की कोशिश

मुहम्मद ओवैस का सियासी क़त्ल ,शवाहिद मिटाने की कोशिश

लंगर हौज़ इलाके में पेश आए कांग्रेस कारकुन मुहम्मद ओवैस क़त्ल केस की तहक़ीक़ात में पुलिस ने ये दावे किये हैके मल्लेपल्ली के दो मजलिसी क़ाइदीन ने इस नौजवान को क़त्ल करने के लिए शहर के बदनाम ज़माना रूडी शीटरस की मदद हासिल की और बादअज़ां इ

लंगर हौज़ इलाके में पेश आए कांग्रेस कारकुन मुहम्मद ओवैस क़त्ल केस की तहक़ीक़ात में पुलिस ने ये दावे किये हैके मल्लेपल्ली के दो मजलिसी क़ाइदीन ने इस नौजवान को क़त्ल करने के लिए शहर के बदनाम ज़माना रूडी शीटरस की मदद हासिल की और बादअज़ां इस केस के शवाहिद मिटाने की हर मुम्किन कोशिश की।

वाज़िह रहे कि कल लंगर हौज़ पुलिस ने ओवैस क़त्ल केस में शामिल 7 मुल्ज़िमीन मुहम्मद फ़िर्दोस ,मुहम्मद लतीफ़ (रूडी शीटरस ) मेराज हुसैन ,मुहम्मद सलीम उद्दीन उर्फ़ फ़िरौ ,मीर शिमरोज़ अली ,सय्यद एजाज़ , इबराहीम ख़ान उर्फ़ छोटू को गिरफ़्तार करते हुए अपनी तहक़ीक़ाती रिपोर्ट में दो मुक़ामी मजलिसी क़ाइदीन असग़र कादरी और मज़हर कादरी और दुसरे को मफ़रूर बताया है।

पुलिस की तरफ से अदालत में दाख़िल की गई केस डायरी के बमूजब मक़्तूल मुहम्मद ओवैस ने सोश्यल नेटवर्किंग वेबसाइट फेसबुक पर ये एलान किया था कि वो अपने दुसरे साथीयों के साथ नामपली के सीनीयर कांग्रेस लीडर फ़िरोज़ ख़ान की क़ियादत में कांग्रेस पार्टी में शमूलीयत इख़तियार करेगा।

असग़र कादरी और मज़हर कादरी जो आपस में भाई हैं और हलक़ा असेंबली नामपली के सियासी सरगर्मीयों की ज़िम्मेदारी सँभालते है, शहर के दो बदनाम ज़माना रूडी शीटरस-ओ- अपने हव्वारियों फ़िर्दोस और लतीफ़ की सरपरस्ती करते हुए उन्हें मजलिस पार्टी में शामिल करवाया और उन्हें अक्सर दारुस्सलाम लेजाकर पार्टी की सरगर्मीयों में हिस्सा लिया करते थे।

पुलिस ने दावे किया है के मुहम्मद ओवैस की तरफ से कांग्रेस पार्टी में शमूलीयत इख़तियार करने के एलान के बाद कादरी बिरादरान ने अपने हव्वारी रूडी शीटरस को मुबय्यना तौर पर ये हुक्म दिया कि वो ओवैस को कांग्रेस पार्टी में जाने से रोक दें चूँकि ओवैस की कांग्रेस में शमूलीयत से उनकी पार्टी का विक़ार मुतास्सिर होगा और दुसरि पार्टी कारकुन भी इस राह पर चल पड़ सकते हैं।

कादरी बिरादरान ने मुबय्यना तौर पर ओवैस की नक़ल-ओ-हरकत पर नज़र रखने के लिए कहा जिस पर लतीफ़ और फ़िर्दोस ने ओवैस को कांग्रेस पार्टी में शामिल होने के ख़िलाफ़ इंतिबाह दिया था।

पुलिस ने अपनी तहक़ीक़ात रिपोर्ट में ये दावे किया है के असग़र कादरी और मज़हर कादरी ने ओवैस को ठिकाने लगाने पर उनके अरकान ख़ानदान को हर मुम्किन मदद फ़राहम करने और क़ानूनी इमदाद भी पहुंचाने का वाअदा भी किया था।जिस पर रोड शीटरस ने मुहम्मद ओवैस साकन बयाटरी लाईन को नानलनगर ,लंगर हौज़ के इलाके में वाक़्ये एक मशहूर होटल के क़रीब 25 नवंबर रात देर गए तलब कर के इस का बेदर्दाना तौर पर क़त्ल कर दिया।

रूडी शीटर फ़िर्दोस ने अपने मुबय्यना इक़बालिया बयान में तहक़ीक़ाती ओहदेदारों को ये बताया है कि 26 नवंबर को वो बज़रीया फ़ोन असग़र कादरी और मज़हर कादी को ये इत्तेला दी कि इस ने अपने साथी रूडी शीटर की मदद से ओवैस से इंतेक़ाम लेते हुए इस का क़त्ल कर दिया है चूँकि वो कांग्रेस पार्टी में शमूलीयत इख़तियार की थी और बाज़ निजी मुआमलात में भी मुदाख़िलत कररहा था और मज़कूरा हलक़ा असेंबली के इलाके में सबक़त हासिल करने की कोशिश कररहा था।

बताया जाता है के मजलिसी क़ाइदीन असग़र और मज़हर कादरी ने ओवैस क़त्ल केस में शामिल मुल्ज़िमीन को पुलिस के रूबरू ख़ुदसपुर्दगी इख़तियार करने का मश्वरह दिया था और बाज़ मुल्ज़िमीन को पी वि नरसिम्हा राव एक्सप्रेस् वि के पिलर नंबर 220 के क़रीब तलब कर के मुल्ज़िमीन के मोबाईल फ़ोन और सिम कार्ड्स छीन कर मुल्ज़िम रूडी शीटरस को हैदराबाद से फ़रार होने का मश्वरह दिया।

पुलिस ने ये दावे किया है कि कादरी बिरादरान की इस हरकत से ये साबित होता है कि उन्होंने क़त्ल केस के शवाहिद से छेड़छाड़ करने की कोशिश की है।

पुलिस इस क़त्ल केस में शामिल दुसरे मुल्ज़िमीन अली बिन हुसैन उर्फ़ इफ़्तिख़ार उर्फ़ चाउश ,मुहम्मद शहबाज़ ,मुहम्मद फ़राँ ,मुहम्मद सलाम और मुहम्मद अरशद के अलावा असग़र और मज़हर कादरी की तलाश कररही है और पुलिस को ये उम्मीद हैके दो मजलिसी क़ाइदीन की गिरफ़्तारी पर ओवैस केस से मुताल्लिक़ मज़ीद इन्किशाफ़ात मुम्किन हैं। पुलिस ने ये भी दावे किया है कि गिरफ़्तार रूडी शीटरस ओवैस के रिश्ते की बहन को काला पत्थर के रूडी शीटर इबराहीम से शादी करवाने की कोशिश की थी जिस पर चंद दिनों से मक़्तूल और मुल्ज़िमीन के दरमयान इख़तेलाफ़ात चल रहे थे।

TOPPOPULARRECENT