Monday , October 23 2017
Home / Khaas Khabar / मुज़फ़्फ़रनगर में 70 फ़ीसद रिकार्ड राय दही

मुज़फ़्फ़रनगर में 70 फ़ीसद रिकार्ड राय दही

मुज़फ़्फ़रनगर लोक सभा इंतेख़ाबी हलक़े में कल 70 फ़ीसद की रिकार्ड राय दही नोट की गई। फ़सादज़दा इलाक़े में राय दहनदे कसीर तादाद में अपना वोट इस्तेमाल करने के लिए क़तारों में खड़े थे। इत्तेलाआत के बमूजब इलाक़ाई मजिस्ट्रेटस ने कहा कि बेघर होन

मुज़फ़्फ़रनगर लोक सभा इंतेख़ाबी हलक़े में कल 70 फ़ीसद की रिकार्ड राय दही नोट की गई। फ़सादज़दा इलाक़े में राय दहनदे कसीर तादाद में अपना वोट इस्तेमाल करने के लिए क़तारों में खड़े थे। इत्तेलाआत के बमूजब इलाक़ाई मजिस्ट्रेटस ने कहा कि बेघर होने वाले मुतास्सिरीन फ़सादात‌ की राय दही पुराने मुक़ामात पर 75 फ़ीसद थी।

जबकि दीगर मुतास्सिरीन ने बाज़ आबादकारी के मुक़ामात पर अपना वोट इस्तेमाल किया। ज़िला मजिस्ट्रेट कौशल राज शर्मा ने कहा कि 72 फ़ैद राय दही हुई। 2 हज़ार से ज़्यादा राय दहनदों ने फ़हरिस्त राय दहिंदगान में बाज़ आबादकारी के मुक़ामात पर अपने नाम दर्ज करवाए थे।

उन्होंने अपने वोट का इस्तेमाल किया। मुतास्सिरीन को बाज़ आबादकारी के मुक़ामात फोगना, लिंक, लिसा ध्, हुस्न पुर, बहाओ डी, कुतबा और कुतुबी से सख़्त हिफ़ाज़ती इंतेज़ामात के दरमियान मराकिज़ राय दही और वापिस उन के मुक़ामात पर पहूँचाया गया। ये वो अफ़राद थे जो अपने नाम नए मुक़ाम पर राय दहिंदगान की हैसियत से दर्ज नहीं करवासके थे।

मुतास्सिरीन फ़सादात‌ के लिए जो बेघर होगए हैं, ख़ुसूसी इंतेज़ामात उन के बाज़ आबादकारी के मुक़ामात पर किए गए थे। लेकिन जो लोग राहत रसानी कैम्पों में राय दहनदों की हैसियत से रजिस्टर्ड नहीं थे उन्हें उनके आबाई देहातों को सख़्त हिफ़ाज़ती इंतेज़ामात के दौरान मुंतक़िल किया गया। 65 से ज़्यादा अफ़राद मुज़फ़्फ़र नगर के फ़सादात‌ में हलाक और 50 हज़ार से ज़्यादा बेघर होगए थे।

TOPPOPULARRECENT