Tuesday , October 17 2017
Home / Business / मेट्रो रेल जैसा पब्लिक ट्रांसपोर्ट सिस्टम ही ट्रैफिक मसला का वाहिद हल

मेट्रो रेल जैसा पब्लिक ट्रांसपोर्ट सिस्टम ही ट्रैफिक मसला का वाहिद हल

हैदराबाद मेट्रो रेल के काम साबित क़दमी और तसलसुल के साथ शुरू किए गए हैं क्यों कि इस प्रोजेक्ट के तहत मुख़्तलिफ़ काम जैसे एसटारम वाटर ड्रेनस ,अंदरूनी मुहल्ला जात को बड़ी सड़कों से मरबूत करने के लिए नई सड़कों की फ़राहमी , सड़कों की

हैदराबाद मेट्रो रेल के काम साबित क़दमी और तसलसुल के साथ शुरू किए गए हैं क्यों कि इस प्रोजेक्ट के तहत मुख़्तलिफ़ काम जैसे एसटारम वाटर ड्रेनस ,अंदरूनी मुहल्ला जात को बड़ी सड़कों से मरबूत करने के लिए नई सड़कों की फ़राहमी , सड़कों की कुशादगी , मियां पूर मैं डिपो के काम वगैरह ज़ेरे तामीर हैं । चूँकि तीन बड़े कारीडर्स , कारीडर I , ( मियां पूर । एल बी नगर , 28-87 किलोमीटर , 27 स्टेशनस ) ,

कारीडर II ( जे बी एस , फ़लक नुमा 14-78 किलोमीटर , 16 स्टेशनस ) और कारीडर III ( नाग़ूल , शिलपारमम 27-51 किलोमीटर , 23 स्टेशनस ) पर 90 फीसद से ज़ाइद राइट आफ़ वी (ROW) दस्तयाब है । इस लिए हैदराबाद मेट्रो रेल के ओहदेदारों ने इस एतिमाद का इज़हार किया कि तमाम तीनों कारीडर्स के काम 2016 तक तकमील को पहुंच जाएंगे । जिस की लागत 14,182 करोड़ रुपये होगी ।

चंद असटरेचस जैसे स्टेज I : नाग़ूल ता मट्टू गोड़ा ( कारीडर III का 8 किलो मीटर ) और स्टेज 2 : मियां पुर ता संजीवा रेड्डी नगर ( कारीडर I का 11 किलो मीटर ) दिसंबर 2014 तक मुकम्मल हो जाएंगे क्यों कि एन कामों को एल एंड टी मेट्रो उप्पल ( हैदराबाद ) लिमिटेड की जानिबसे अंजाम दिया जा रहा है ।

एच एम आर एल मैनिजिंग डायरैक्टर एन वी इस रेड्डी ने अरकान असेंबली जय प्रकाश नारायण ( कोकट पली ) और भिक्षा पति यादव ( सेरी लिंगम पली ) और एच एम आर और जी एच एम सी के ओहदेदारों के साथ मूसा पेट पर मेट्रो फ़सेलेशन वर्क़्स ( मियां पूर , एस आर नगर ) , के स्टेज II, आई डी एल चीरो ,क़ौमी शाहराहों की कुशादगी के कामों , और लिंक रोड्स का मुआइना क्या ।

एन वी इस रेड्डी ने कहा कि इस तरह के बड़े प्रोजेक्टस के लिए छोटी और मामूली रुकावटें दरपेश होती हैं और रियासती हुकूमत इस तरह की रुकावटों को बात चीत के ज़रीया दूर करने के इक़दामात कर रही है और क़ानूनी इख़्तयारात पर भी तवज्जा दे रही है । दिल्ली मेट्रो रेल के लिए 200 मुक़द्दमात दायर किए गए और बैंगलौर मेट्रो रेल के लिए तक़रीबा 100 केसेस , लेकिन काम होते रहे ।

इमलाक से महरूम होने वालों को हुकूमत बहुत अच्छा मुआवज़ा दे रही है यानी 45000 रुपये फ़ी मुरब्बा गज़ और किराया दार और हॉकर्स की बाज़ आबाद कारी आर आर पेयाकेज के तहत की जा रही है । जए प्रकाश नारायण ने कहा कि ट्रैफिक मसला का वाहिद हल एक बेहतर पब्लिक ट्रांसपोर्ट सिस्टम का क़ियाम है जिसे मेट्रो रेल , चूँकि हैदराबाद में ट्रैफिक में बहुत इज़ाफ़ा होरहा है इस लिए शहर के लिए मेट्रो रेल अशद ज़रूरी है ।

भिक्षा पति यादव ने कहा कि मेट्रो रेल ट्रैफिक के मसला को हल करने के लिए बहुत ज़रूरी है और ये वक़्त का तक़ाज़ा है । उन्हों ने कारीडर I रूट को पट्टन चीरू तक वुसअत देने की दरख़ास्त की । एन वी इस रेड्डी ने कहा कि कारीडर I ( मियां पूर । एल बी नगर ) हैदराबाद का एक मसरूफ़ तरीन ट्रैफिक कारीडर है और शहर ज़्यादा तर क़ौमी शाहराह 9 पर बढ़ रहा है ।

पट्टन चीरू / मियां पूर और एल बी नगर / वनसथली पोरम के दरमियान , फ़िलवक़्त इस रूट पर हर घंटा तक़रीबा 10 ता 20 हज़ार गाड़ियों की आमद-ओ-रफ़त हो रही है ।

जिस की वजह ट्रैफिक के मसाइल पैदा होरहे हैं । ट्रैफिक माहिरीन ने कहा कि अगर रेल पर मबनी एक बड़ा टरांज़ट सिस्टम आइन्दा चंद साल में नहीं बनाया गया तो इस शाहराह पर गाड़ियों की रफ़्तार ( मौजूदा रफ़्तार 11 किलो मीटर फ़ी घंटा ) मज़ीद कम हो जाए गी।

TOPPOPULARRECENT