Sunday , October 22 2017
Home / Khaas Khabar / मेरी ज़िंदगी को ख़तरा है : हाफ़िज़ सईद

मेरी ज़िंदगी को ख़तरा है : हाफ़िज़ सईद

लश्कर-ए-तयबा के बानी हाफ़िज़ सईद ने यहां लाहौर हाइकोर्ट से रुजू होकर इससे इस्तेदा की है कि वो पाकिस्तानी हुक्काम को हिदायत दे कि वो इन (हाफ़िज़ सईद) के ख़िलाफ़ कोई कार्रवाई ना करे। अमेरीका से दबाव पड़ने पर उनके ख़िलाफ़ कोई भी फ़र्ज़ी कार्

लश्कर-ए-तयबा के बानी हाफ़िज़ सईद ने यहां लाहौर हाइकोर्ट से रुजू होकर इससे इस्तेदा की है कि वो पाकिस्तानी हुक्काम को हिदायत दे कि वो इन (हाफ़िज़ सईद) के ख़िलाफ़ कोई कार्रवाई ना करे। अमेरीका से दबाव पड़ने पर उनके ख़िलाफ़ कोई भी फ़र्ज़ी कार्रवाई ना करे।

उन्होंने अदालत से ये भी कहा कि उन्हें स्कियोरिटी फ़राहम की जाए क्योंकि उन की ज़िंदगी को ख़तरा है और कोई हादिसा हो सकता है। हाफ़िज़ सईद की दरख़ास्त पर कार्रवाई करते हुए जिन के सर पर अमेरीका ने 10 मिलीयन डालर का इनाम रखा है। लाहौर हाइकोर्ट के चीफ़ जस्टिस अज़मत सईद शेख़ ने वफ़ाक़ी हुकूमत, वज़ारत-ए-दाख़िला और वज़ीर-ए-दाख़िला पंजाब को नोटिसें जारी की हैं और उन को हिदायत दी है कि वो 25 अप्रैल तक अपने जवाब दाख़िल करें।

हाफ़िज़ सईद ने अपने बरादर-ए-निसबती हाफ़िज़ अबदुर्रहमान मुक्की के हमराह दरख़ास्त दाख़िल की है जिन के सर पर भी अमेरीका ने 2 मिलीयन अमेरीकी डॉलर्स का इनाम रखा है। अमेरीका ने अपने इंसाफ़ प्रोग्राम के लिए इस इनाम का ऐलान किया था। हाफ़िज़ सईद और मुक्की ने अपनी दरख़ास्त में इस्तेदलाल पेश किया कि पाकिस्तानी दस्तूर के आर्टीकल 4 और 9 के तहत वो एक आज़ाद शहरी हैं और वफ़ाक़ी और सुबाई हुकूमतों को उन के ख़िलाफ़ कोई मनफ़ी कार्रवाई करने से बाज़ रखना चाहीए।

अमेरीका के दबाव में आकर ये हुकूमतें उन के ख़िलाफ़ कार्रवाई कर सकती हैं। इन दरख़ास्तों में अदालत से ये भी कहा गया है कि वो हुकूमत को हिदायत दे कि वो उन्हें स्कियोरिटी फ़राहम करे क्योंकि उन की ज़िंदगीयां महफ़ूज़ नहीं हैं और उन के साथ कभी भी कुछ भी हादिसा हो सकता है।

सईद और मुक्की ने मज़ीद दरख़ास्त की है कि अदालत वफ़ाक़ी हुकूमत को हिदायत दे कि वो अमेरीका से कहे कि इनके ख़िलाफ़ ऐलान कर्दा इनामात को वापस ले। हाफ़िज़ सईद के वकील ए के डोगर ने कहा कि हकूमत-ए-पाकिस्तान को चाहीए कि वो सईद के ख़िलाफ़ अमेरीका से सबूत पेश करने का मुतालिबा करे।

TOPPOPULARRECENT