Friday , October 20 2017
Home / Entertainment / मेरे जाने के बाद फिल्मों में अश्लीलता और पॉर्न परोसे जायेंगे- पहलाज निहलानी

मेरे जाने के बाद फिल्मों में अश्लीलता और पॉर्न परोसे जायेंगे- पहलाज निहलानी

नई दिल्ली। सेंट्रल बोर्ड ऑफ फिल्म सर्टिफिकेशन (सीबीएफसी) के अध्यक्ष पद से हटाए जाने के बाद पहलाज निहलानी की पहली प्रतिक्रिया सामने आई है।

पहलाज ने कहा है कि इस निर्णय से वह बिल्कुल भी आश्चर्यचकित नहीं हुए हैं। उन्होंने फिल्म इंडस्ट्री और उन लोगों को शुभकामनाएं दीं, जो उनके विरोध में थे।

सेंसर बोर्ड में हुए बदलाव के पीछे उन्होंने कुछ फिल्म निर्माताओं पर साजिश का आरोप लगाया। नाराज निहलानी ने कहा कि अब उनके जाने के बाद सभी फिल्मों में पॉर्न और अश्लील सामग्री परोसी जाएगी।

निहलानी के अनुसार 98 फीसदी प्रोड्यूसर उनसे खुश थे लेकिन 2 फीसदी प्रोड्यूसरों के लिए दिवाली है। अब वे खुश होंगे कि जिनके गलत के खिलाफ वे लड़ाई लड़ रहे थे।

बतौर सेंसर बोर्ड अध्यक्ष अपने कामकाज पर पहलाज निहलानी ने कहा कि, मैनें मेरे काम को मेरी जितनी क्षमता थी, उसके अनुसार किया है। मैं इसका सम्मान करता हूं।

निहलानी ने सीबीएफसी के कार्यकाल को लेकर खुशी जताते हुए कहा कि मैंने हमेशा अपने काम को पूरी ईमानदारी और निष्ठा के साथ किया है। इसलिए मुझे कोई पछतावा नहीं है। सेंसर बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष ने देश की संस्कृति और पारंपरिक मूल्यों को बचाए रखने के लिए फिल्मों में सेंसरशिप को जरूरी बताया।

निहलानी के अनुसार ‘ सेंसरशिप जरूरी है और इससे परहेज करने का मतलब है कि आप फिल्म निर्माताओं को हर फिल्म में पॉर्न और अश्लीलता परोसने की खुली छूट दे रहे हैं। ’उन्होंने डिजिटल और टीवी की दुनिया में भी सेंसर की सख्त जरूरत बताई।

निहलानी का तर्क है कि सिनेमैटोग्राफ ऐक्ट को भारतीय परिदृश्य को ध्यान में रखते हुए बनाया गया है। उन्होंने स्वच्छ भारत के विज्ञापन का उदाहरण देते हुए कहा कि इसे देख जब लोग सडक़ों पर थूकना छोड़ देते हैं तो निश्चित तौर पर फिल्मों में हिंसा और अश्लीलता का भी उन पर असर होता है।

TOPPOPULARRECENT