Saturday , August 19 2017
Home / Bihar News / मेरे सामने खड़े होने की हिम्मत सबमें कहां : लालू

मेरे सामने खड़े होने की हिम्मत सबमें कहां : लालू

पटना : राघोपुर के मोहनपुर में कच्ची दरगाह-बिदुपुर पुल के काम की शुरुवात के मौके पर इतवार को मुनक़्क़िद तक़रीब में मौजूद राजद के क़ौमी सदर लालू प्रसाद अपने पूरे तेवर में थे। हाजीपुर के एमपी व मर्कज़ी वज़ीर रामविलास पासवान और बिहार भाजपा के लीडरों को इस तक़रीब में इन्वाइट नहीं किये जाने के सिलसिले में हुई मुबय्यना बहस पर प्रसाद ने कहा कि सबको कार्ड भेजा गया था। लेकिन उनलोगों की हिम्मत ही नहीं है कि मेरे सामने खड़े हो सकें। सब हारे हुए लोग हैं। एसेंबली इंतिखाब में बिहार की महान अवाम ने तमाम मुख़लिफ़ीन की हवा खराब कर दी।

कहा कि पूरी दुनियां में बिहार एसेंबली इंतिखाब नतीजे की बहस हुई। अब बाहर के लोग बिहारियों से इज़्ज़त से पूछते हैं कि लालू और नीतीश के यहां से आए हैं। बिहारियों का कोई बेइज़्ज़त नहीं कर सकता। भाजपा के लीडरों का नाम लिये बिना कहा कि ये लोग कह रहे हैं कि हुकूमत नहीं चलेगी, लालू नहीं चलने देंगे। लेकिन मैं यक़ीन देता हूं कि नीतीश कुमार की क़ियादत में हुकूमत बीस साल क्या जितने साल तक नीतीश चाहेंगे उतने साल तक वे वज़ीरे आला रहेंगे। अब हम अखबार में बयान देते चलें। उन्होंने रियासत में शराबबंदी को लेकर कहा कि ख्वातीन ने उनसे कहा कि बबूआ दारू बंद होए के चाही। दारू पीए से किडनी और लीवर खराब हो जाता है। शराबबंदी के मुद्दे पर मेरी नीतीश कुमार से बातचीत हुई थी। हम और नीतीश कुमार आपस में सलाह करके ही कुछ करते हैं। उन्होंने कहा कि हर घर में नल से पानी की सप्लाई की जाएगी। उसकी सारी मंसूबा तैयार हो गई है।

मर्कज़ी हुकूमत पर हमला बोलते हुए प्रसाद ने कहा कि इंदिरा आवास और मनरेगा की रक़म में भारी कटौती कर दी गई है। मर्कज़ी हुकूमत सरकार स्मार्ट सिटी बना रही है। बिहार के लोगों को स्मार्ट सिटी नहीं स्मार्ट गांव चाहिए। गंगा में आलूदगी की बहस करते हुए कहा कि गंगा माई नाले की तरह दिख रही हैं और नरेन्द्र मोदी नमामि गंगा मुहीम चला रहे हैं। उन्होंने लोगों को यक़ीन दिया कि जिस तरह से रेल वज़ीरे के तौर में रेलवे को चमकाया उसी तरह से वह और नीतीश कुमार बिहार को चमकाएंगे। पुल की तामीर काम शुरू होने की बहस करते हुए लालू प्रसाद ने कहा कि सड़क तामीर महकमा के इंजीनियरों ने उनसे पूछा था कि सर आपका भी नाम शिलापप्त पर दे दें। मैंने साफ मना कर दिया। मैंने कहा कि हम तो हमेशा पत्थर पर ही रहे हैं। पत्थर पर नाम लिख देने से क्या होगा।

TOPPOPULARRECENT