Wednesday , August 23 2017
Home / India / मेवात के डिंगरहेड़ी गाँव में हुए गैंगरेप मामले में बडा खुलासा पीडित लडकियो ने कहा गैंगरेप में शामिल थे गौरक्षक

मेवात के डिंगरहेड़ी गाँव में हुए गैंगरेप मामले में बडा खुलासा पीडित लडकियो ने कहा गैंगरेप में शामिल थे गौरक्षक

मेवात(हरियाणा )।मेवात के डीगरहेडी गांव में 24-25 अगस्त की रात्री को एक बच्ची और महिला के कथित सामूहिक बलात्कार और एक दंपति की हत्या के बाद पूरे इलाक़े में दहशत का माहौल है। सोमवार को पीड़ित लड़कियों ने मीडिया के सामने कहा कहा कि आरोपियों ने गैंगरेप के वक़्त कहा था कि तुम लोग गाय का मांस खाते हो…इसलिए तुम सबके साथ ऐसा सलूक कर रहे हैं। पीडित लडकियो ने कहा आरोपी हमसे बोले की तुम गाय का मांस खाते हो, हमने कहा नहीं खाते, उसके बावजूद उनके साथ ये जुल्म किया। हमने पानी के लिए कही तो पेशाब पिलाया, वे बेरहम थे सभी, गुंडे थे, पिटाई की, वह एक बार अपने बच्चे को फेंककर आरोपियों के चुगेल से भागी, लेकिन दरिंदों ने उसके आइ माह के बच्चे की गर्दन पर चाके रख दिया वापिस आयो नहीं तो बच्चे कि बोटी-बोटी कर देगें, फिर बच्चे के लिए वह वापस आई। उसके बाद सभी दरिंदों ने उनके मामा-मामी के सामने हीे गलत काम किया फिर मामा मामी का उनके समाने ही कत्ल किया। उसके बाद दरिंगें दोनो को अलग-अलग ले गये और करीब तीन-चार घण्टे तक सभी आरोपी उनके साथ गलत काम करते रहें। जब उन्होने पीने को पानी मांगां तो पैशाब पिलाया गया।
सुबेह पुलिस आई उनको नूंह लेकर चली गई। पुलिस ने भी कुछ कार्रवाई न करी, वे घबराई हुर्द थी, भूख प्यास से जान निकल रही थी। पुलिस उनको कभी इधर ले जाती कभी उधर। उनको नूंह में एक कमरे में बंद कर दिया पुलिस ने और चार घण्टे तक पीने को पानी तक नही दिया। पुलिस ने सफेद कागज पर उनसे अंगूठे लगवाये। उनके साथ जो बीती जो कुछ याद आया पुलिस को बताया पुलिस ने क्या लिखा उनको कुछ पता नहीं। इनता कुछ होने के बावजूद पुलिस कुछ नहीं कर रही है सभी दरिंदों को पकडा जाये और सभी को फाँसी हो।
पीड़ित परिवार के सदस्य बोले पुलिस ने उनके साथ इंसाफ नहीं किया। अभितक पूरेे आरोपी भी नहीं पकडे जो पकडे उनसे कुछ बरामद भी नहीं किया। जब लड़कियों के बयांन लिए गए उनको कुछ नहीं बताया गया। रविवार को उनके घर के नजदीक हरियाणा के डीजीपी आये लकिन उनके घर पर दुख में शामिल होने कि बजाये डीजीपी केएमपी रोड से ही निरीक्षण करके गाडियों के काफिले के साथ चले गए। इससे वो काफी आहात हुए हैं। उन्होने सभी आरोपियों को फंासी के सजा की मांग की है और दोषी पुलिस वालों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर करवाई की बात कही है।
वही रमजान चैधरी का कहना हे की जिस तरके से लड़कियो के साथ दरिंदगी की गई है उससे लगता है ये सब एक साजिश के तहत किया गया है। चोधरी ने कहा कि इस दरिंदगी के वजह उन्होंने जानी तो पाया की आरोपियों में से दो आरएसएस और गो रक्षा दल से जुड़े हुए है। कुछ के फ़ेसबुक प्रोफ़ाइल से पता चलता है कि वो कट्टरपंथी हिंदूवादी संगठनों के समर्थक हैं। यहां देश की आज़ादी के समय और बंटवारे के बाद भी कभी झगड़ा नहीं हुआ है. अच्छा भाईचारा है। हो सकता है इस घटना के पीछे सांप्रदायिक भावना भड़काने की साज¸िश हो।
नूंह बार एसोसिएशन के अध्यक्ष आबिद ख़ान कहते हैं कि पुलिस ने मुकदमा दर्ज करने से लेकर आरोपियों को गिरफ्तारी तक जो कार्रवाई की है वह सब आरोपियों को बचाने कि नियत से की गई है। मुकदमा में पहले दिन धारा 302 ने लगाना, घटना के दिन ही पीडित लडकियों के 164 के ब्यान दर्ज कराना, पुलिस की ओर से आरोपियों का डीएनए टेंस्ट के लिये अर्जी देना और 12 दिन के पुलिस रिमांड पर लेने के बावजूद कुछ भी बरामद ने करना ही पुलिस की कार्रवाई पर संदेह पैदा करता है।
इस मोके पर जिला पार्षद शाहीन चौधरी बार असोसिएसन की तरफ से जिला बप्रधान आबिद खान, रमजान चौधरी एडवोकेट,शमीम एडवोकेट के अलावा पीड़ित लड़कियों के नाना और मामा सहित कई लोग मौजूद थे

TOPPOPULARRECENT