Wednesday , September 20 2017
Home / India / मोदी की जिनपिंग से मुलाकात की, एनएसजी गतिरोध बरकरार

मोदी की जिनपिंग से मुलाकात की, एनएसजी गतिरोध बरकरार

ताशकनद/ सियोल: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज चीन से भारत एनएसजी सई का समर्थन करने की अपील की, लेकिन इस मसले पर 48 राष्ट्रीय समूह की बैठक में चीन के नेतृत्व में भारी विरोध के संदर्भ में कुछ सफलता न मिली। मोदी और शक्तिशाली चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग की ताशकंद में मिले जहां से लगभग 5000 कीलोमीटर दूर दक्षिण कोरियाई राजधानी में भारत का मामला जो हालांकि नियमित एजेंडा नहीं था, एनएसजी सदस्यों ए साथ‌ डिनर विशेष बैठक में उठाया गया। हालांकि एनएसजी सदस्यों भारत के इंटीरियर के बारे में बदस्तूर विभाजित दिखाई दिए क्योंकि नई दिल्ली ने एनपीटी पर हस्ताक्षर नहीं किए हैं। समझा जाता है कि चीन के अलावा तुर्की, ऑस्ट्रिया, न्यूजीलैंड और आयरलैंड ने भी यह रुख अपनाया कि भारत के मामले में कोई अपवाद नहीं दिया जा सकता है। इस तरह स्पष्ट रूप से मोदी की अपील चीनी रुख बदलने में असफल रहीं,

लेकिन देखना है इस दो दिवसीय खुले बैठक शुक्रवार को अंतिम दिन क्या परिवर्तन हो जाती है। पहले समूह (एनएसजी) में शामिल हो गए भारत के प्रयासों के दौरान मोदी ने चीनी राष्ट्रपति जिनपिंग से मुलाकात की और समझा जाता है कि उन्होंने इस मुद्दे पर चीन से समर्थन का अनुरोध किया है। चीन का समर्थन भारत एनएसजी सदस्यता के लिए महत्वपूर्ण माना जाता है। मोदी और जिनपिंग की मुलाकात का नतीजा परमाणु वाणिज्यिक संस्था की सदस्यता के मुद्दे पर सियोल की बैठक के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण रहेगा, आधिकारिक सूत्रों ने यह बात बताई। भारत का यह मानना है कि अगर चीन इस मसले पर भारत के प्रति सहानुभूति पूर्ण रुख करता है और भारत के दावा का समर्थन करता है, तो अन्य देशों के विरोध कोई मायने नहीं रखते|

TOPPOPULARRECENT