Sunday , October 22 2017
Home / Uttar Pradesh / मोदी की लहर है, तो साथी की क्या जरूरत : बाबूलाल मरांडी

मोदी की लहर है, तो साथी की क्या जरूरत : बाबूलाल मरांडी

झाविमो सदर और एमपी बाबूलाल मरांडी ने कहा है कि अगर मुल्क में मोदी की लहर है, तो फिर भाजपा लोकसभा इंतिख़ाब में साथी क्यों ढूंढ़ रही है। नरेंद्र मोदी की लहर पूरे मुल्क में है, तो भाजपा तमाम 542 सीटों पर क्यों नहीं इंतिख़ाब लड़ती। मंगल को प

झाविमो सदर और एमपी बाबूलाल मरांडी ने कहा है कि अगर मुल्क में मोदी की लहर है, तो फिर भाजपा लोकसभा इंतिख़ाब में साथी क्यों ढूंढ़ रही है। नरेंद्र मोदी की लहर पूरे मुल्क में है, तो भाजपा तमाम 542 सीटों पर क्यों नहीं इंतिख़ाब लड़ती। मंगल को पार्टी दफ्तर में सहाफ़ियों के सवालों के जवाब में मिस्टर मरांडी ने ये बातें कहीं।

उन्होंने कहा कि भाजपा को अगर लगता है कि मुल्क की आवाम नरेंद्र मोदी के साथ है, तो उनको गुजरात के वजीरे आला ओहदे से इस्तीफा देकर मुल्क में निकल जाना चाहिए था। लेकिन मोदी गुजरात छोड़ने का नाम नहीं ले रहे हैं। यह पूछे जाने पर कि क्या वह तीसरे मोरचा के साथ इंतिखाबी इत्तिहाद करेंगे। मिस्टर मरांडी ने कहा कि वह गैर कांग्रेस-भाजपा हुकूमत के हक़ में हैं। इन दोनों पार्टियों को इकतीदार से दूर रखने के लिए किसी भी मोरचे का हिमायत करेंगे। कांग्रेस-भाजपा की पॉलिसियाँ मुल्क के खिलाफ हैं। किसान, मजदूर और गरीब लोगों के खिलाफ है। मुल्क में टैलेंट लोगों का एहतेराम नहीं है। आज गरीब का बच्च मेडिकल-इंजीनियरिंग की पढ़ाई नहीं कर सकता।

बालू से तेल निकाल रही है हुकूमत, ड्रामा कर रहे हैं वज़ीर

झाविमो लीडर मिस्टर मरांडी ने कहा कि हेमंत सोरेन हुकूमत बालू से तेल निकाल रही है। हुकूमत में बेकार बातें हो रहीं हैं। वज़ीरों को रियासत के मुफ़ाद से कोई लेना-देना नहीं है। वज़ीर ड्रामाबाजी कर रहे हैं। असली मुद्दों से भटकाने के लिए बयानबाजी कर रहे हैं। इक्तिदार में बैठे वज़ीर ओपोजीशन का काम कर रहे हैं। आपस में लड़ाने के लिए बयानबाजी कर रहे हैं। भोजपुरी पर वज़ीर बयान दे रहीं हैं, जबकि इक्तिदार में रहकर उनको ही काम करना है।

डींग हांकनेवाली कांग्रेस चुप क्यों

झाविमो सदर बाबूलाल मरांडी ने कहा कि कांग्रेस पंचायतों को हक़ देने की बात करती थी। डींग हांकने वाली हुकूमत अब चुप है। कांग्रेस के हिमायत से चल रही हेमंत सोरेन हुकूमत पंचायतों का हक़ छीन रही है। झारखंड पांचवीं सेडुल का रियासत है, यहां मुक़ामी अदारों को हक़ हैं। इस हुकूमत की नीयत साफ नहीं है। ऐसी सौदेबाजी के लिए ही कांग्रेस ने रियासत में हुकूमत बनवायी है।

TOPPOPULARRECENT